छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ

31
नई दिल्ली। महिला सशक्तिकरण के पक्ष में आवाज उठाने तथा छात्रों को महिलाओं के प्रति संवेदनशील बनाने के उद्देश्य से जानकी देवी वोकेशनल सेंटर में वार्षिक कार्यक्रम संकल्प -2018 के दौरान नाटकों का आयोजन किया गया। इसके अलावा इस दौरान छात्रों द्वारा बनाए गए उत्पादों एवं कृतियों की प्रदर्शनी और फैशन शो का भी आयोजन किया गया।
इस कार्यक्रम के जरिए छात्रों को अपनी रचनाशीलता एवं सृजनात्मकता को प्रदर्शित करने का मौका मिला। इस आयोजन के तहत नाट्य संस्था ‘‘अभिव्यक्ति’’ ने अस्मिता थियेटर ग्रुप के सहयोग से दो नाटकों का मंचन किया गया। पहला नाटक ‘‘दस्तक’’ महिलाओं के खिलाफ क्रूरता पर आधारित है और दूसरा नाटक ‘‘बुढ़ापा’’ हमारे वरिष्ठ नागरिकों को समर्पित है।
छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ
छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ

इस आयोजन के बारे में दिल्ली विश्वविद्यालय के जानकी देवी मेमोरियल कॉलेज की प्रधानाचार्य (कार्यवाहक) डा. स्वाति पाल ने कहा, ‘‘इस आयोजन में सबसे आनंददायक आयोजन वार्षिक प्रदर्शनी और फैशन शो था जिसकी मेजबानी जानकी देवी मेमोरियल काॅलेज ने की। इन आयोजनों में छात्रों की उत्कृष्ट प्रतिभा और वे जो प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं, उसकी उत्कृष्टता को सभी ने देखा। फैशन शो और लाइव प्रदर्शन में छात्रों द्वारा की गई डिजाइनिंग ने इस आयोजन को यादगार बना दिया। छात्रों द्वारा प्रदर्शित कार्यक्रमों ने आंखों को ठंडक प्रदान की। मुझे यकीन है कि इस वर्ष भी, कुछ प्रदर्शन आश्चर्यजनक रहे होंगे। मैं संकलन 2018 के भारी सफलता की कामना करती हूं।’’

यह पूरा आयोजन दो भागों में विभाजित था। पहले भाग के तहत प्रदर्शनी का आयोजन किया गया  जिसमें इंटीरियर और ललित कला के छात्रों ने अपने प्रतिस्पर्धी रचनात्मकता उत्पादों का प्रदर्शन किया और साथ ही अन्य विभागों ने भी अपने कार्यों को पेश किया। ललित कला के छात्रों ने अपनी कृतियों में रंगों और कैनवास का सुंदर उपयोग किया था जिसके कारण इस प्रदर्शनी का आकर्षण और भी बढ़ गया। इंटीरियर डिजाइनिंग के छात्रों ने बाजार की मांग के अनुसार अपनी कल्पनाशीलता और अपने ज्ञान का बेहतरीन इस्तेमाल कर अपने उत्पादों को तैयार किया।

{ यह भी पढ़ें:- IG ने छात्राओं को बताया 'राइट टू प्राइवेट' का मतलब, छात्राओं ने पूछे ऐसे सवाल }

छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ
छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ

दूसरा भाग फैशन शो का था जिसमें फैशन डिजाइनिंग विभाग के छात्रों ने परिधानों को डिजाइन कर अपने रचनात्मक कौशल का प्रदर्शन किया और रैंप पर उनका प्रदर्शन किया। इस शो में डिजाइनिंग, वस्त्र, कोरियोग्राफी, संगीत, प्रकाश इत्यादि की सभी गतिविधियां इन हाउस की गई और छात्रों ने इन्हें स्वयं आयोजित किया जिसे कला, फैशन और इंटीरियर डिजाइनिंग की दुनिया के जूरी सदस्यों ने देखा। इस शो के तहत नृत्य, रंगमंच जैसे विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों को भी प्रदर्शित किया गया। इस वर्ष जेडीवीसी के छात्रों ने पंजाब, महाराष्ट्र, बंगाल और राजस्थान जैसे बहुमुखी भारतीय राज्यों के नृत्य का प्रदर्शन किया।

छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ
छात्रों ने नाटकों से सीखा महिला सशक्तिकरण का पाठ

समिति के सदस्य

डा. भुवन मोहन, डा. कुसुम कृष्णा, डा. सुजाता आनंद, श्री एन. के. जैन, डा. स्वाति पाल (प्रिंसिपल, जेडीएमसी), सुश्री माधुरी वर्मा (समन्वयक, जेडीवीसी)
जज
फैशन डिजाइनर संजना जॉन, प्रतिमा पांडे, मनीष त्रिपाठी, जिगर, मिस इंडियन दीवा आयोजक इशरीन वाडी, मॉडल भारती गुप्ता और फैशन फोटोग्राफर रोहित सूरी।

नई दिल्ली। महिला सशक्तिकरण के पक्ष में आवाज उठाने तथा छात्रों को महिलाओं के प्रति संवेदनशील बनाने के उद्देश्य से जानकी देवी वोकेशनल सेंटर में वार्षिक कार्यक्रम संकल्प -2018 के दौरान नाटकों का आयोजन किया गया। इसके अलावा इस दौरान छात्रों द्वारा बनाए गए उत्पादों एवं कृतियों की प्रदर्शनी और फैशन शो का भी आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के जरिए छात्रों को अपनी रचनाशीलता एवं सृजनात्मकता को प्रदर्शित करने का मौका मिला। इस आयोजन के तहत नाट्य संस्था ‘‘अभिव्यक्ति’’ ने…
Loading...