सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा- जेएनयू को बंद करे सरकार, दो साल बाद नाम बदलकर खोला जाए

subramanin swamy
सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा- जेएनयू को बंद करे सरकार, दो साल बाद नाम बदलकर खोला जाए

नई दिल्ली। भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को एक बार फिर नई दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) को बंद करने का सुझाव दिया है। उन्होंने अहमदाबाद के थलतेज में एक निजी विश्वविद्यालय के कार्यक्रम के दौरान कहा कि केन्द्र सरकार को जेएनयू को लेकर कड़ा कदम उठाना चाहिए। इसकी सफाई के लिए इसे कम से कम दो साल के लिए बंद कर देना चाहिए और जब यह शुरू हो तो इसका नाम बदल कर सुभाष चंद्र बोस विश्वविद्यालय कर दिया जाना चाहिए।

Subramanian Swamy Said Government Should Close Jnu Change Name After Two Years And Open :

स्वामी ने कहा कि बंद करने से पहले अच्छे छात्रों को दिल्ली विश्वविद्यालय या अन्य में स्थानांतरित कर देना चाहिए तथा उपद्रवियों को बाहर कर देना चाहिए। स्वामी ने कहा कि नेहरू के नाम पर पहले से ही कई संस्थान है इसलिए जेएनयू का नाम बदल दिया जाना चाहिए। स्वामी ने कहा कि जेएनयू तथा अन्यत्र हो रहे नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के हिंसक विरोध के पीछे आतंकी और विदेशी तत्वों का हाथ भी है।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के तीन प्राध्यापकों अमित परमेश्वरन, अतुल सूद और शुक्ला विनायक सावंत की ओर से दायर याचिका में दिल्ली पुलिस आयुक्त और दिल्ली सरकार को आवश्यक निर्देश देने की मांग की गई है। याचिका में व्हाट्सऐप इंक, गूगल इंक और एप्पल इंक को जेएनयू हमला मामले में व्हाट्सऐप ग्रुप्स ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट और ‘फ्रेंड्स ऑफ आरएसएस से जुड़े सभी डेटा को सुरक्षित रखने अथवा वापस एकत्र करने के लिए निर्देश देने की मांग की गई है। डेटा में संदेश, तस्वीरें, वीडियो और सदस्यों के फोन नंबर आदि शामिल हैं। जेएनयू के प्राध्याक

नई दिल्ली। भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को एक बार फिर नई दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) को बंद करने का सुझाव दिया है। उन्होंने अहमदाबाद के थलतेज में एक निजी विश्वविद्यालय के कार्यक्रम के दौरान कहा कि केन्द्र सरकार को जेएनयू को लेकर कड़ा कदम उठाना चाहिए। इसकी सफाई के लिए इसे कम से कम दो साल के लिए बंद कर देना चाहिए और जब यह शुरू हो तो इसका नाम बदल कर सुभाष चंद्र बोस विश्वविद्यालय कर दिया जाना चाहिए। स्वामी ने कहा कि बंद करने से पहले अच्छे छात्रों को दिल्ली विश्वविद्यालय या अन्य में स्थानांतरित कर देना चाहिए तथा उपद्रवियों को बाहर कर देना चाहिए। स्वामी ने कहा कि नेहरू के नाम पर पहले से ही कई संस्थान है इसलिए जेएनयू का नाम बदल दिया जाना चाहिए। स्वामी ने कहा कि जेएनयू तथा अन्यत्र हो रहे नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के हिंसक विरोध के पीछे आतंकी और विदेशी तत्वों का हाथ भी है। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के तीन प्राध्यापकों अमित परमेश्वरन, अतुल सूद और शुक्ला विनायक सावंत की ओर से दायर याचिका में दिल्ली पुलिस आयुक्त और दिल्ली सरकार को आवश्यक निर्देश देने की मांग की गई है। याचिका में व्हाट्सऐप इंक, गूगल इंक और एप्पल इंक को जेएनयू हमला मामले में व्हाट्सऐप ग्रुप्स 'यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट और 'फ्रेंड्स ऑफ आरएसएस से जुड़े सभी डेटा को सुरक्षित रखने अथवा वापस एकत्र करने के लिए निर्देश देने की मांग की गई है। डेटा में संदेश, तस्वीरें, वीडियो और सदस्यों के फोन नंबर आदि शामिल हैं। जेएनयू के प्राध्याक