लखनऊ में विदेश से लौट रहे लोगों से ऐसे हो रही वसूली, डीएम से शिकायत

Air service
अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा सेवा पर जारी रहेगा 15 जुलाई तक प्रतिबंध, सरकार ने दिया आदेश

लखनऊ। कोरोना संकट के बीच विदेश से लौट रहे यात्रियों के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पर बदसलूकी की जा रही है। लोगों का आरोप है कि सरकारी विभागों और होटलों के प्रतिनिधि उनको होटल में क्वारंटाइन होने का विकल्प चुनने के लिए दबाव भी बना रहे हैं। इनमें से कुछ यात्रियों ने डीएम को शिकायती पत्र लिखकर एयरपोर्ट की अव्यवस्था के बारे में बताया है।

Such Recovery Is Being Made From People Returning From Abroad In Lucknow Complaint To Dm :

दरअसल, कुवैत से जजीरा एयर की उड़ान से आए कई यात्री मोहनलालगंज स्थित राधास्वामी सत्संग व्यास में क्वारंटीन हैं। इनमें से एक कुवैत में ट्रांसपोर्ट के कारोबारी सलीम का आरोप है कि उन्हें अमौसी एयरपोर्ट पर प्रतिनिधियों ने घेर लिया। होटल में क्वारंटीन होने का दबाव बनाने लगे। कुवैत से ही आए पीलीभीत के दिलबाग सिंह ने भी आरोप लगाया कि एयरपोर्ट पर पानी, चाय कुछ नहीं मिला। हमसे कहा गया कि टैक्सी दे रहे हैं इसे लेकर घर चले जाओ, 12 हजार रुपए किराया है। पैसे कम होने पर अफसरों ने घर पर जाकर देने का दबाव बनाया।

अंतत: उनकी कोई अपील नहीं सुनी गई और उन्हें क्वारंटाइन सेंटर भेज दिया गया।  इन यात्रियों का आरोप है कि एयरपोर्ट पर उनसे कहा गया कि टैक्सी लेकर क्वारंटीन सेंटर जाएं। मोहनलालगंज तक टैक्सी चालक ने 700 रुपए प्रति यात्री वसूले। यह भी आरोप है कि एक यात्री जिसको लेने उनका रिश्तेदार आया था उसे भी टैक्सी से ही भेजने का दबाव बनाया गया।

लखनऊ। कोरोना संकट के बीच विदेश से लौट रहे यात्रियों के साथ लखनऊ एयरपोर्ट पर बदसलूकी की जा रही है। लोगों का आरोप है कि सरकारी विभागों और होटलों के प्रतिनिधि उनको होटल में क्वारंटाइन होने का विकल्प चुनने के लिए दबाव भी बना रहे हैं। इनमें से कुछ यात्रियों ने डीएम को शिकायती पत्र लिखकर एयरपोर्ट की अव्यवस्था के बारे में बताया है। दरअसल, कुवैत से जजीरा एयर की उड़ान से आए कई यात्री मोहनलालगंज स्थित राधास्वामी सत्संग व्यास में क्वारंटीन हैं। इनमें से एक कुवैत में ट्रांसपोर्ट के कारोबारी सलीम का आरोप है कि उन्हें अमौसी एयरपोर्ट पर प्रतिनिधियों ने घेर लिया। होटल में क्वारंटीन होने का दबाव बनाने लगे। कुवैत से ही आए पीलीभीत के दिलबाग सिंह ने भी आरोप लगाया कि एयरपोर्ट पर पानी, चाय कुछ नहीं मिला। हमसे कहा गया कि टैक्सी दे रहे हैं इसे लेकर घर चले जाओ, 12 हजार रुपए किराया है। पैसे कम होने पर अफसरों ने घर पर जाकर देने का दबाव बनाया। अंतत: उनकी कोई अपील नहीं सुनी गई और उन्हें क्वारंटाइन सेंटर भेज दिया गया।  इन यात्रियों का आरोप है कि एयरपोर्ट पर उनसे कहा गया कि टैक्सी लेकर क्वारंटीन सेंटर जाएं। मोहनलालगंज तक टैक्सी चालक ने 700 रुपए प्रति यात्री वसूले। यह भी आरोप है कि एक यात्री जिसको लेने उनका रिश्तेदार आया था उसे भी टैक्सी से ही भेजने का दबाव बनाया गया।