स्वैच्छिक रक्तदान से बड़ा कोई पुनीत कार्य नहीं: सीडीओ

सुल्तानपुर: मुख्य विकास अधिकारी रामयज्ञ मिश्र ने कहा कि स्वैच्छिक रक्तदान से बड़ा कोई पुनीत कार्य नहीं है। रक्तदान करने से किसी भी जरूरतमंद व्यक्ति को जीवन मिलता है। सीडीओ शुक्रवार को विकास भवन में स्वैच्छिक रक्तदान से एक बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। सीडीओ ने सभी का आवाहन् किया कि हम आगामी पहली अक्टूबर को राष्टी्य स्वैच्छिक रक्तदान दिवस पर कम से कम 100 यूनिट रक्तदान करें। उन्होनें कहा कि युवाओं में रक्तदान के प्रति जागरूकता पैदा करने के सम्बन्ध में शीद्य्र ही महाविद्यालयों में गोष्ठियां आयोजित की जायेगी।




इस संबंध में उन्होनें जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देशित किया कि वे महाविद्यालयों के प्राचार्यों की एक बैठक शीद्य्र आयोजित करायें। उन्होनें कहा कि हमें सुलतानपुर स्थित जिला चिकित्सालय के ब्लड बैंक को और सुदृढ़ कराना है,ताकि जब किसी जरूरतमंद को रक्त की आवश्यकता हो तो बाहर से मंगाने की जरूरत न पड़े। उन्होेनें कहा कि हम लोगों में जागरूकता पैदा कर अपने जिले को आगे बढ़ायेगें। इस अवसर पर ब्लड बैंक के प्रभारी चिकित्साधिकारी डाॅ.एस.के.पाण्डेय ने रक्तदान की उपयोगिता पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होनें कहा कि जागरूक रक्तदाता बनें और जीवन बचायें। उन्होनें बताया कि रक्तदान के 24 से 48 घण्टे के अन्दर पुनः रक्त बन जाता है। कोई भी स्वस्थ मनुष्य जिसकी आयु 18 से 65 वर्ष हो रक्तदान कर सकता है।

जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्साधीक्षक डाॅ.जलालुद्दीन ने बताया कि राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस पर पहली अक्टूबर को जिला चिकित्सालय में एक संगोष्ठी आयोजित की जायेगी तथा स्वैच्छिक रक्तदान होगा। उन्होनें बताया कि 14 अक्टूबर को कादीपुर,20 अक्टूबर को लम्भुआ व 24 अक्टूबर को कूरेभार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर रक्तदाता पंजीकरण /रक्तदान का कार्यक्रम होगा। इस अवसर पर शहीद स्मारक सेवा समिति के करतार केशव यादव ,घर सुलतानपुर फाउन्डेशन के पदाधिकारी, के.एन.आई.टी. व के.एन.आई.पी.एस. के प्रतिनिधियों ने अपने विचार प्रस्तुत किये तथा स्वैच्छिक रक्तदान हेतु लोगों में जागरूकता पैदा करने हेतु कार्यक्रम आयोजित करने का अश्वासन दिया। बैठक में मुख्य चिकित्साधीक्षिका डाॅ.उर्मिला चैधरी,जिला विद्यालय निरीक्षक गिरीश कुमार सिंह, जिला सूचना अधिकारी आर.बी.सिंह,स्वीप कोआर्डीनेटर डाॅ.सुशील कुमार गौतम ,जिला चिकित्सालय के डाॅ.जय प्रकाश आदि उपस्थित थे।

सुल्तानपुर से बृजेश श्रीवास्तव की रिपोर्ट