शर्मनाक: सनी लियोन ने लिया बच्ची को गोद तो यूजर्स ने कैसे लूटी वाहवाही

नयी दिल्ली। ‘नेवर जज ए बूक बाइ इट्स कवर’ यह लाइन तो अपने भी खूब सुनी और सुनाई होगी, लेकिन क्या ऐसा रियल लाइफ में होता है। इंसान द्वारा किसी चीज़ को लेकर बनाई धारणा बदल सकती है। एक बार जो छवि हमारे दिमाग में बन गयी उसे आसानी से मिटाया जा सकता है इन सभी सवालों का जबाब बेहद मुश्किल हैं। उदाहरण के तौर पर ही देख लीजिये, मान लीजिये आपसे सनी लियोन के बारे में कुछ सवाल किए जाए। आप तपाक से बोल देंगे वो… उसके बारे में क्या बताना। यही इंसानी फितरत हम पर हावी है, हम किसी चीज़ को लेकर जो धारणा बना ले रहें है उसको दिमाग से बाहर निकाल फेक बहुत ही जटिल हो जा रहा है। अब अप भी सोच रहें होंगे कि हमने सनी लियोन की ही मिसाल क्यों पेश किया। क्योकि कहानी भी उसी हसीना से जुड़ी हुई है जिसका नाम लेते ही अमूमन मर्दों में एक करंट सी दौड़ जाती है।

दरअसल खबर यह आ रही हैं कि सनी लियोनी ने एक बच्ची को गोद लिया है। जिसकी फोटो इतराते हुए सनी ने अपने फ़ेसबूक पर पोस्ट किया है। बताया जा रहा है कि 2 साल की जद्दोजहद के बाद उनको एक बच्ची अडॉप्ट करने की इजाज़त मिल गई है। सनी खुश है, खुश होना स्वाभाविक भी हैं। सनी के पति डेनियल वेबर भी खुश हैं। लेकिन समस्या तब खड़ी हुई जब लोग दुखी हो गए हैं। एक अनाथ बच्ची का भविष्य संवारने वाले इस कदम की तारीफ़ करने की जगह अपनी गंदी सोच का गटर खोल बैठे। अब कोई पॉर्न स्टार किसी बच्ची को एडोप्ट करती है इसका मतलब वो उसे अपनी तरह ही बनाएगी, क्या घटिया मानसिकता है…

{ यह भी पढ़ें:- VIRAL: वायरल हुई इस महिला 'पुलिस' की फोटो, जानिए क्या है सच्चाई }

सनी ने एक डेढ़ साल की बच्ची को गोद लिया। नाम रखा है निशा कौर वेबर। इस प्यारी सी बच्ची के साथ उन्होंने फेसबुक पर फोटो डाली। हालांकि कुछ लोगों ने वहां सनी की तारीफ़ भी की, लेकिन कुछ लोग नीचता की सारी हदें पार कर के रख दी। ज्ञातव्य है कि सनी लियोन को पॉर्न इंडस्ट्री छोड़ें हुए 2 साल हो गए है, लेकिन इंसानी दिमाग में आज भी उनकी वही नंगी तस्वीरें घर किए हुई बैठी है, जैसे ही यह नाम कही सुनाई देता है अपने आप सारी ज्ञानेंद्रियां काम करना शुरू कर देती है। आप खुद ही देख लीजिये…लोगों के नेक विचार

कुछ लोगों का मानना है कि ये शर्म की बात है। भारत के अधिकारियों को इसकी परमिशन नहीं देनी चाहिए थी। एक महिला कहती हैं, “पेरेंट्स के तौर पर वो अपने बच्चों को क्या सिखाएंगे?” कुछ ने तो मर्यादा पार करते हुए यह तक कह डाला कि इसे भी ये अपनी तरह बनाएँगी। समुदाय विशेष के लोगों का मानना है कि बच्ची के नाम में ‘कौर’ नहीं लगाना चाहिए था। मां ने सिख समुदाय को शर्मिंदा किया है। उसे ‘कौर’ लगाने का कोई हक़ नहीं।

वाजिब सवाल यह है कि क्या पॉर्न इंडस्ट्री छोड़ चुकी महिला को भी सिर उठाकर जीने का हक़ नहीं, या फिर वो किसी सामाजिक कार्य में दिलचस्पी दिखा रही है तो उसे ऐसा करने का हक़ नहीं…

{ यह भी पढ़ें:- सनी लियोनी का चौंकाने वाला खुलासा, इनबॉक्स में लोग करते हैं ऐसे मैसेज }

Loading...