वर्ष 2018 का पहला चंद्र ग्रहण, 176 वर्ष बाद पुष्य नक्षत्र का विशेष संयोग

वर्ष 2018 का पहला चंद्र ग्रहण, 176 वर्ष बाद पुष्य नक्षत्र का विशेष संयोग
वर्ष 2018 का पहला चंद्र ग्रहण, 176 वर्ष बाद पुष्य नक्षत्र का विशेष संयोग

नई दिल्ली। वर्ष 2018 का पहला चंद्रग्रहण 31 जनवरी यानि बुधवार को पड़ेगा। यह ग्रहण माघ की पूर्णिमा के दिन पड़ेगा जो कुछ लोगों के लिए अत्यंत शुभ और कुछ लोगों के लिए अशुभ भी हो सकता है। चंद्र ग्रहण पर 176 वर्ष बाद पुष्य नक्षत्र का भी विशेष संयोग बन रहा है। काफी समय बाद सुपर मून की स्थिति बनी है। चंद्र ग्रहण के दिन चंद्रमा आमदिनों के मुकाबले ज्यादा बड़ा दिखेगा। भारत में यह चंद्र ग्रहण शाम 6 बजकर 22 मिनट से रात 8 बजकर 42 मिनट के बीच होगा। इसे पूरे भारत में देखा जा सकेगा।

ज्योतिषों की माने तो कर्क राशि के जातकों के लिए यह ग्रहण अशुभ होगा। वहीं प्राकृतिक आपदाओं की भी संभावनाएं है। वहीं मेष राशि के जातकों के लिए व्यथा, वृष के लिए श्री, मिथुन के लिए क्षति और कन्या राशिवालों को लाभ होगा। इसके अलावा तुला राशि के लोगों को सुख और कुंभ राशि के लोगों को सौभाग्य की प्राप्ति होगी।

{ यह भी पढ़ें:- भाग्यशाली होते हैं ऐसी हस्त रेखा वाले लोग, कभी नहीं होती पैसों की कमी }

वैज्ञानिकों का कहना है कि 150 साल बाद 31 जनवरी को ऐसा चंद्र ग्रहण होने जा रहा है जिसमें चांद नीले रंग का दिखाई देगा। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि इसदिन चांद काफी चमकदार होगा। यह नजारा बेहद अद्भु होगा। वैज्ञानिकों ने बताया है कि चंद्र ग्रहण के दौरान चांद का निचला हिस्सा ऊपरी हिस्से से ज्यादा चमकीला होगा।

इससे पहले 1866 में चंद्र ग्रहण के दौरान नीला चांद देखने को मिला था। अब अगला चंद्र ग्रहण 31 दिसंबर 2028 को होगा जब चांद नीला दिखाई देगा। वैज्ञानिकों के अनुसार, यह ग्रहण रात्रि में होगा जो कि पूर्वी एशिया, इंडोनेशिया, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा।

{ यह भी पढ़ें:- अपने काम के अनुसार धारण करे रुद्राक्ष, हमेशा होंगे कामयाब }

Loading...