सुप्रीम कोर्ट ने उमर अब्दुल्ला की रिहाई को लेकर J&K प्रशासन को दिया 1 हफ्ते का वक्त

umar
सुप्रीम कोर्ट ने उमर अब्दुल्ला की रिहाई को लेकर J&K प्रशासन को दिया 1 हफ्ते का वक्त

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 बीते अगस्त माह में हटाया गया था और तभी जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को हिरासत में लेकर नजर बंद कर दिया गया था। केन्द्र सरकार द्वारा बताया गया था कि जम्मू की स्थिति सामान्य होते ही उन्हे रिहा कर दिया जायेगा लेकिन हालात सुधरने के बावजूद अभी तक उन्हे नही रिहा किया गया है। जिसको लेकर उमर अब्दुल्ला की बहन सारा अब्दुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी। बुधवार को उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से पूछा है कि अगले सप्ताह तक बताएं कि उमर अब्दुल्ला को रिहा किया जा रहा है या नहीं?

Supreme Court Gives 1 Week To Jk Administration Regarding Release Of Omar Abdullah :

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर आप उमर अब्दुल्ला को रिहा कर रहे हैं तो उन्हें जल्द रिहा कीजिए या फिर हम हिरासत के खिलाफ उनकी बहन की याचिका पर सुनवाई करेंगे। बता दें, जम्मू कश्मीर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के राज्यसभा सदस्य नजीर अहमद लावे ने सोमवार को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वासन दिया है कि जम्मू-कश्मीर में हिरासत में लिए गए पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती सहित सभी राजनीतिक नेताओं को जल्द ही रिहा कर दिया जाएगा।

लावे ने कहा कि संसद भवन में उनकी प्रधानमंत्री से 20 मिनट तक बातचीत हुई थी। इस दौरान उन्होने पीएम मोदी को जम्मू-कश्मीर की मौजूदा स्थिति से अवगत कराया और उनसे उमर, महबूबा और पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल सहित सभी बंदियों को रिहा करने का अनुरोध किया।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 बीते अगस्त माह में हटाया गया था और तभी जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को हिरासत में लेकर नजर बंद कर दिया गया था। केन्द्र सरकार द्वारा बताया गया था कि जम्मू की स्थिति सामान्य होते ही उन्हे रिहा कर दिया जायेगा लेकिन हालात सुधरने के बावजूद अभी तक उन्हे नही रिहा किया गया है। जिसको लेकर उमर अब्दुल्ला की बहन सारा अब्दुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी। बुधवार को उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से पूछा है कि अगले सप्ताह तक बताएं कि उमर अब्दुल्ला को रिहा किया जा रहा है या नहीं? सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर आप उमर अब्दुल्ला को रिहा कर रहे हैं तो उन्हें जल्द रिहा कीजिए या फिर हम हिरासत के खिलाफ उनकी बहन की याचिका पर सुनवाई करेंगे। बता दें, जम्मू कश्मीर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के राज्यसभा सदस्य नजीर अहमद लावे ने सोमवार को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वासन दिया है कि जम्मू-कश्मीर में हिरासत में लिए गए पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती सहित सभी राजनीतिक नेताओं को जल्द ही रिहा कर दिया जाएगा। लावे ने कहा कि संसद भवन में उनकी प्रधानमंत्री से 20 मिनट तक बातचीत हुई थी। इस दौरान उन्होने पीएम मोदी को जम्मू-कश्मीर की मौजूदा स्थिति से अवगत कराया और उनसे उमर, महबूबा और पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल सहित सभी बंदियों को रिहा करने का अनुरोध किया।