सुप्रीम कोर्ट फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ के बैन से EC से नाराज, कहा- पहले देखें फिर फैसला लें

sc
सुप्रीम कोर्ट फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' के बैन से EC से नाराज, कहा- पहले देखें फिर फैसला लें

नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्टर विवेक ओबेरॉय स्टारर फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ पर चुनाव आयोग की रोक के बाद फिल्म निर्माता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।  सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म के निर्माताओं की याचिका पर सुनवाई करते हुए चुनाव आयोग से कहा है कि वो फिल्म देखकर बताएं कि फिल्म रिलीज होने लायक है या नहीं।

Supreme Court Gives Order To Election Commission On Film Pm Narendra Modi Said Watch First And Then Decid :

कोर्ट ने 22 अप्रैल तक चुनाव आयोग से मामले में सीलबंद लिफाफे में अपना विचार देने को कहा है।फिल्‍म ‘PM Narendra Modi’ के मेकर्स की ओर से उनके वकील मुकुल रोहतगी ने कोर्ट में दलील दी कि चुनाव आयोग ने बिना फिल्म देखे, फिल्म को बैन करने फैसला कर दिया है।

इससे पहले चुनाव आयोग ने राजनीतिक पार्टियों और राजनेताओं को चुनावी लाभ पहुंचाने वाली फिल्म को रिलीज की मंजूरी देने से इंकार कर दिया था, जिसके बाद पीएम मोदी बॉयोपिक सहित दो अन्य फिल्मों की रिलीज पर रोक लग गई थी।

चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा था कि चुनाव के वक्त ऐसी किसी फिल्म को रिलीज करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है जिससे किसी राजनीतिक दल या राजनेता को फायदा मिलने की संभावना हो।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक की रिलीज में हो रही देरी को लेकर अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि कुछ शक्तिशाली लोग फिल्म की रिलीज को रोकने का प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कुछ बहुत शक्तिशाली लोग हैं, जिन्होंने अपने वकीलों के जरिए अदालतों का दरवाजा खटखटाया है। वे हमें कुछ समय के लिए रोक सकते हैं, लेकिन वे फिल्म को रिलीज करने से हमें रोक नहीं पाएंगे।

नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्टर विवेक ओबेरॉय स्टारर फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' पर चुनाव आयोग की रोक के बाद फिल्म निर्माता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।  सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म के निर्माताओं की याचिका पर सुनवाई करते हुए चुनाव आयोग से कहा है कि वो फिल्म देखकर बताएं कि फिल्म रिलीज होने लायक है या नहीं।

कोर्ट ने 22 अप्रैल तक चुनाव आयोग से मामले में सीलबंद लिफाफे में अपना विचार देने को कहा है।फिल्‍म 'PM Narendra Modi' के मेकर्स की ओर से उनके वकील मुकुल रोहतगी ने कोर्ट में दलील दी कि चुनाव आयोग ने बिना फिल्म देखे, फिल्म को बैन करने फैसला कर दिया है।

इससे पहले चुनाव आयोग ने राजनीतिक पार्टियों और राजनेताओं को चुनावी लाभ पहुंचाने वाली फिल्म को रिलीज की मंजूरी देने से इंकार कर दिया था, जिसके बाद पीएम मोदी बॉयोपिक सहित दो अन्य फिल्मों की रिलीज पर रोक लग गई थी।

चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा था कि चुनाव के वक्त ऐसी किसी फिल्म को रिलीज करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है जिससे किसी राजनीतिक दल या राजनेता को फायदा मिलने की संभावना हो।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक की रिलीज में हो रही देरी को लेकर अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि कुछ शक्तिशाली लोग फिल्म की रिलीज को रोकने का प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कुछ बहुत शक्तिशाली लोग हैं, जिन्होंने अपने वकीलों के जरिए अदालतों का दरवाजा खटखटाया है। वे हमें कुछ समय के लिए रोक सकते हैं, लेकिन वे फिल्म को रिलीज करने से हमें रोक नहीं पाएंगे।