सुप्रीम कोर्ट ने NRC के कॉर्डिनेटर को लगाई फटकार, कहा- क्यों ना आपको जेल भेजें

सुप्रीम कोर्ट ने NRC के कॉर्डिनेटर को लगाई फटकार, कहा- क्यों ना आपको जेल भेजें
सुप्रीम कोर्ट ने NRC के कॉर्डिनेटर को लगाई फटकार, कहा- क्यों ना आपको जेल भेजें

नई दिल्ली। NRC की प्रक्रिया को लेकर एनआरसी के अध्‍यक्ष प्रतीक हजेला के बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई है। मीडिया में आये प्रतीक हजेला के बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आप कौन होते हैं यह कहने वाले कि फ्रेश डॉक्यूमेंट दें। आप ने ये कैसे कहा कि काफी मौके देंगे। आपका काम रजिस्टर तैयार करना है न कि मीडिया को ब्रीफ करना। हजेला के अखबार में आये इंटरव्यू को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई है। सुप्रीम कोर्ट ने हजेला से पूछा कि कोर्ट की अवमानना में उन्‍हें जेल क्‍यों न भेजा जाए।

सुनवाई के दौरान जस्टिस नरीमन ने कहा कि आप कौन होते हैं ये कहने वाले कि फ्रेश डॉक्यूमेंट दें। आपने कैसे कह दिया कि अभी काफी मौके देंगे। SC ने कहा कि आपका काम सिर्फ रजिस्टर तैयार करना है, ना कि मीडिया को ब्रीफ करना है। कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि क्यों ना हम आपको जेल में भेज दें। अब इस मामले की सुनवाई 16 अगस्त को होगी।

{ यह भी पढ़ें:- आरूषि- हेमराज मर्डर केस : सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट दोबारा करेगी मामले की सुनवाई }

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये सुनवाई स्वतः संज्ञान लेकर शुरू हुई है। जो बयान दिया गया है वह ठीक नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस बात को ध्यान में रखते हुए की फाइनल NRC पूरा होना है। सुप्रीम कोर्ट ने हजेला और रजिस्टार जरनल को कहा कि भविष्य में सतर्क रहें और कोर्ट आदेश के मुताबिक काम करें। सिर्फ NRC फाइनल को लेकर काम किया जाए।

गौरतलब है कि असम के राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का दूसरा और आखिरी ड्राफ्ट जारी हो चुका है। इसमें 3.29 करोड़ आवेदकों में से 2.90 करोड़ आवेदक वैध पाए गए हैं। 40 लाख आवेदकों का नाम ड्राफ्ट से गायब है। बता दें कि असम में एनआरसी का पहला ड्राफ्ट पिछले साल दिसंबर के आखिर में जारी हुआ था। पहले ड्राफ्ट में 3.29 करोड़ आवेदकों में से 1.9 करोड़ लोगों के नाम शामिल किए गए थे।

{ यह भी पढ़ें:- इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट में एक साथ होंगी तीन महिला न्यायाधीश }

नई दिल्ली। NRC की प्रक्रिया को लेकर एनआरसी के अध्‍यक्ष प्रतीक हजेला के बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई है। मीडिया में आये प्रतीक हजेला के बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आप कौन होते हैं यह कहने वाले कि फ्रेश डॉक्यूमेंट दें। आप ने ये कैसे कहा कि काफी मौके देंगे। आपका काम रजिस्टर तैयार करना है न कि मीडिया को ब्रीफ करना। हजेला के अखबार में आये इंटरव्यू को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई है।…
Loading...