1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. अयोध्या जमीन घोटाले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो उच्चस्तरीय जांच : Mayawati

अयोध्या जमीन घोटाले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो उच्चस्तरीय जांच : Mayawati

बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने एक बार फिर कहा कि अपने फायदे के लिए भाजपा (BJP) और सपा (SP) विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) को हिंदू-मुसलमान बनाना चाहती हैं। उन्होंने पार्टी मुख्यालय पर मुख्य सेक्टर प्रभारियों और जिला अध्यक्षों को निर्देश दिया कि वह घर-घर जाकर भाजपा और सपा कि इस साजिश का खुलासा करें और मतदाताओं को सतर्क करें।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने एक बार फिर कहा कि अपने फायदे के लिए भाजपा (BJP) और सपा (SP) विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) को हिंदू-मुसलमान बनाना चाहती हैं। उन्होंने पार्टी मुख्यालय पर मुख्य सेक्टर प्रभारियों और जिला अध्यक्षों को निर्देश दिया कि वह घर-घर जाकर भाजपा और सपा कि इस साजिश का खुलासा करें और मतदाताओं को सतर्क करें। मायावती (Mayawati)  ने कहा कि अयोध्या जमीन घोटाले (Ayodhya Land Scam) पर कहा कि इसकी उच्च स्तर पर जांच होनी चाहिए और केंद्र व राज्य सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए। इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की निगरानी में होनी चाहिए।

पढ़ें :- यूपी देश के टॉप-4 राज्यों में शामिल, 75 लाख से अधिक नल कनेक्शन देने का आंकड़ा किया पार

मायावती (Mayawati) ने फोन टैपिंग के मामले में कहा कि कांग्रेस जब पावर में होती है तब वह भी यही करती है। उन्होंने कहा कि भाजपा (BJP)  जब पावर में होती है। तब वह उस पर यही आरोप लगते हैं। मायावती (Mayawati) ने गुरुवार को पार्टी मुख्यालय पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि भाजपा (BJP)  सपा (SP)  व कांग्रेस घोषणा पत्र के बहाने मतदाताओं को लालच दे रही है कि उन्हें क्या-क्या दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मतदाताओं को इससे सतर्क रहना चाहिए। उन्हें पारदर्शी सरकार चाहिए या लालच देने वाली सरकार। बसपा (BSP) की चार सरकारों में जनता के हितों में ही काम किया गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा दावा कर रही है कि उसे 300 से अधिक सीटें मिलेंगी अगर ऐसा होता तो भाजपा (BJP) के बड़े-बड़े नेता मारे मारे न फिर रहे होते और लोकार्पण व शिलान्यास के बहाने न तलाशे जाते।

मायावती (Mayawati)  ने कहा कि मतदाता पहचान पत्र (Voter Id Card) को आधार कार्ड (Aadhar Card) से जोड़ने का निर्णय जल्दबाजी में लिया गया है। केंद्र सरकार को इस पर लोकसभा और राज्यसभा में खुली बहस करानी चाहिए थी। बसपा (BSP) इससे सहमत नहीं है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...