1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. पदोन्नति में आरक्षण पर मानकों में हस्तक्षेप से सुप्रीम कोर्ट का इनकार,केंद्र सरकार को दिया ये निर्देश

पदोन्नति में आरक्षण पर मानकों में हस्तक्षेप से सुप्रीम कोर्ट का इनकार,केंद्र सरकार को दिया ये निर्देश

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने पदोन्नति में आरक्षण (Reservation in Promotion) पर शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के लिए पदोन्नति में आरक्षण की शर्तों को कम करने से इनकार कर दिया है। इसके साथ ही कोर्ट कहा कि राज्य सरकारें अनुसूचित जाति व जनजाति के कर्मचारियों को पदोन्नति में आरक्षण (Reservation in Promotion)  देने से पहले मात्रात्मक डेटा एकत्र करने के लिए बाध्य हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने पदोन्नति में आरक्षण (Reservation in Promotion) पर शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के लिए पदोन्नति में आरक्षण की शर्तों को कम करने से इनकार कर दिया है। इसके साथ ही कोर्ट कहा कि राज्य सरकारें अनुसूचित जाति व जनजाति के कर्मचारियों को पदोन्नति में आरक्षण (Reservation in Promotion)  देने से पहले मात्रात्मक डेटा एकत्र करने के लिए बाध्य हैं। प्रतिनिधित्व की अपर्याप्तता के आकलन के अलावा मात्रात्मक डेटा का संग्रह अनिवार्य है। उस डेटा का मूल्यांकन किया जाना चाहिए। हालांकि, केंद्र यह तय करे कि डेटा का मूल्यांकन एक तय अवधि में ही हो। यह अवधि क्या होगी इसको केंद्र सरकार (Central Government) तय करे।

पढ़ें :- हिमाचल प्रदेश को पीएम मोदी ने दी बड़ी सौगात, कहा-अब एम्स भी बिलासपुर की शान बढ़ा रहा

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court)  ने कहा कि नागराज (2006) और जरनैल सिंह (2018) मामले में संविधान पीठ के फैसले के बाद शीर्ष अदालत कोई नया पैमाना नहीं बना सकती है। इस मामले में कोर्ट अगली सुनवाई 24 फरवरी को करेगा।

हम कोई मानदंड नहीं निर्धारित कर सकते?

जस्टिस एल नागेश्वर राव, जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस बीआर गवई की बेंच ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि हम प्रतिनिधित्व की अपर्याप्तता को निर्धारित करने के लिए कोई मानदंड निर्धारित नहीं कर सकते। एक निश्चित अवधि के बाद प्रतिनिधित्व की अपर्याप्तता के आंकलन के अलावा मात्रात्मक डेटा का संग्रह अनिवार्य है। यह समीक्षा अवधि केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित की जानी चाहिए। कोर्ट ने कहा कि कैडर आधारित रिक्तियों के आधार पर आरक्षण पर डेटा एकत्र किया जाना चाहिए। राज्यों को आरक्षण प्रदान करने के उद्देश्य से समीक्षा होनी चाहिए और केंद्र सरकार समीक्षा की अवधि निर्धारित करेगी।

पढ़ें :- Vijayadashami 2022 : गृह मंत्री अमित शाह  बोले-कश्मीर में मरेगा आतंकवाद का 'रावण' 
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...