1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Supreme Court : चीफ जस्टिस ने जताई नाराजगी, कोर्ट से पहले मीडिया तक कैसे पहुंचा हलफनामा?

Supreme Court : चीफ जस्टिस ने जताई नाराजगी, कोर्ट से पहले मीडिया तक कैसे पहुंचा हलफनामा?

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमन्ना (NV Ramnna) ने सोमवार को जजों तक हलफनामा पहुंचने से पहले मीडिया में लीक होने पर सख्त नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि न्यायालय में हलफनामा दायर से पहले जज हलफनामे को मीडिया में पढ़ते हैं। सीजेआई (CJI) ने सोमवार को एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ( ASG) से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि हलफनामा मीडिया को प्रसारित करने से पहले अदालत में दायर किया जाए। उन्होंने कहा कि उनके पीआरओ सुबह मीडिया में छपी हलफनामों से संबंधित रिपोर्ट दिखाते हैं, जबकि तब तक हलफनामा न्यायालय में दायर नहीं होता।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमन्ना (NV Ramnna) ने सोमवार को जजों तक हलफनामा पहुंचने से पहले मीडिया में लीक होने पर सख्त नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि न्यायालय में हलफनामा दायर से पहले जज हलफनामे को मीडिया में पढ़ते हैं। सीजेआई (CJI) ने सोमवार को एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ( ASG) से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि हलफनामा मीडिया को प्रसारित करने से पहले अदालत में दायर किया जाए। उन्होंने कहा कि उनके पीआरओ सुबह मीडिया में छपी हलफनामों से संबंधित रिपोर्ट दिखाते हैं, जबकि तब तक हलफनामा न्यायालय में दायर नहीं होता।

पढ़ें :- यूपी देश के टॉप-4 राज्यों में शामिल, 75 लाख से अधिक नल कनेक्शन देने का आंकड़ा किया पार

सीजेआई (CJI) ने एएसजी नटराज (ASG Natraj) से कहा कि कृपया हलफनामा सर्कुलेट करें। हम केवल मीडिया में हलफनामे पढ़ते हैं। इसके बाद नटराज ने पीठ को भरोसा दिलाया कि अब केंद्र सरकार की ओर से नहीं होगा। सीजेआई (CJI) ने यह बात अपनी अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के लौह अयस्क निर्यात से संबंधित आवेदनों पर विचार के दौरान कही। पीठ ने इस्पात मंत्रालय से यह स्पष्ट करने को कहा कि क्या घरेलू बाजार में पर्याप्त लौह अयस्क उपलब्ध है और क्या खनन सामग्री के निर्यात की अनुमति दी जानी चाहिए?

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...