1. हिन्दी समाचार
  2. SC नागरिकता कानून के विरोध में हिंसा की CBI या SIT जांच कराने पर करेगा विचार

SC नागरिकता कानून के विरोध में हिंसा की CBI या SIT जांच कराने पर करेगा विचार

Supreme Court Will Consider Conducting Cbi Or Sit Investigation Into Violence Against Citizenship Law

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश के कई हिस्सों में प्रदर्शन हो रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ देश भर में प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा की सीबीआई या कोर्ट की निगरानी में एसआईटी जांच का अनुरोध करने वाली एक याचिका पर विचार करने की सहमति दे दी।

पढ़ें :- नौतनवां:एक साथ उठी पति-पत्नी की अर्थिया,रो उठा पूरा नगर

इस मामले का सीजेआई एस ए बोबडे की अगुवाई वाली एक पीठ के समक्ष तत्काल सुनवाई के लिए उल्लेख किया गया। पीठ ने कहा कि हम हिंसा के मामले पर गौर करेंगे। पीठ ने मामले में याचिकाकर्ता वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय से कहा कि वह देश में जो कुछ हो रहा है, उस सबको अपने अधिकार क्षेत्र में नहीं समझ सकता है क्योंकि स्थिति और तथ्य अलग हो सकते हैं। इसके साथ ही कहा कि हम यह नहीं कह रहे कि आप जो मुद्दा उठा रहे हैं वह जरूरी नहीं है। पीठ ने कहा कि आप कल अपनी किस्मत आजमा सकते हैं।

अश्विनी कुमार उपाध्याय ने पीठ को बताया कि पश्चिम बंगाल में प्रदर्शन के दौरान ट्रेनों को आग लगाई गई और हिंसक प्रदर्शनों के पीछ के असल षड्यंत्रकर्ता का पता लगाने के लिए सीबीआई या एसआईटी जांच जरूरी है। शीर्ष अदालत आज उन याचिकाओं पर सुनवाई करेगी जिनमें संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान यहां के जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में छात्रों के खिलाफ कथित पुलिस बर्बरता का मुद्दा उठाया गया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...