1. हिन्दी समाचार
  2. सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अब RTI के दायरे में आएगा CJI का कार्यालय

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, अब RTI के दायरे में आएगा CJI का कार्यालय

Supreme Courts Big Decision Now Cjis Office Will Come Under The Purview Of Rti

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। भारत के मुख्य न्यायाधीश का कार्यालय भी सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के दायरे में आ गया है। सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ ने अपना फैसला सुनाते हुए बुधवार को कहा कि देश के मुख्य न्यायाधीश (सीजीआई) का दफ्तर सार्वजनिक कार्यालय है, इसलिए यह आरटीआई के दायरे में आएगा।

पढ़ें :- बॉलीवुड की यह 6 एक्ट्रेस लहंगे में दिखती है कुछ ऐसी, तस्वीरे देखकर आप भी हो जायेंगे इनके दीवाने!

दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को 3-2 से फैसला सुनाते हुए कहा कि सीजीआई दफ्तर सार्वजनिक कार्यालय है। इसलिए यह आरटीआई के दायरे में आएगा। पीठ ने कहा कि सीजीआई दफ्तर सार्वजनिक कार्यालय है।

पीठ में सीजेआई समेत जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना उस याचिका पर अपना फैसला सुनाया जिसमें सुप्रीम कोर्ट के महासचिव ने दिल्ली हाईकोर्ट के जनवरी 2010 में आए फैसले को चुनौती दी थी। दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि सीजेआई का दफ्तर एक सार्वजनिक प्राधिकरण है और इसे सूचना के अधिकार कानून के अंतर्गत लाया जाना चाहिए। पीठ ने इस साल अप्रैल में इस याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया था।

सीजेआई रंजन गोगोई ने पहले यह कहा था कि पारदर्शिता के नाम पर एक संस्था को नुकसान नहीं पहुंचाया जाना चाहिए। नवंबर 2007 में आरटीआई कार्यकर्ता सुभाष चंद्र अग्रवाल ने आरटीआई याचिका दाखिल कर सुप्रीम कोर्ट से जजों की संपत्ति के बारे में जानकारी मांगी थी जो उन्हें देने से इनकार कर दिया गया।

पढ़ें :- बोल्ड सीन देने में कभी पीछे नहीं हटती ये अभिनेत्रियाँ, दबंगई देख घबरा जाते हैं हीरो

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...