सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 10 जुलाई से पहले कोर्ट में हाजिर हो विजय माल्या

Suprme Court Finds Vijay Mallya Guilty Contempt Court Orders Appear 10 July

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को बैंकों के संघ की याचिका पर अवमानना का दोषी करार दिया। शीर्ष अदालत ने माल्या को 10 जुलाई या उससे पहले अदालत के समक्ष पेश होने का आदेश दिया है।




कोर्ट ने उन्हें इस मामले में समन भी जारी किया है। फिलहाल माल्या लंदन में हैं, पिछले साल 2 मार्च को उन्होंने भारत छोड़ा था। उन्हें प्रत्यर्पित करने की तैयारी शुरू की जा चुकी है। 2 मई को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई का चार सदस्ययी दल प्रत्यर्पण की कोशिशें तेज करने के लिए लंदन गया था। दोनों ही एजेंसियां अलग-अलग मामलों में विजय माल्या की जांच कर रही हैं।




18 अप्रैल को स्कॉटलैंड यार्ड ने विजय माल्या को तीन घंटे तक गिरफ्तार करके रखा था। इस दौरान उनसे पूछताछ की गई और फिर छोड़ दिया गया। 61 साल के शराब कारोबारी विजय माल्या को वेस्टमिंस्टर कोर्ट के आदेश के बाद गिरफ्तार किया गया था। जमानत मिलने के बाद विजय माल्या ने ट्वीट में लिखा था, ‘मीडिया ने मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया, प्रत्यर्पण केस की सुनवाई आज से सुनवाई शुरू हो गई।’

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार को भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को बैंकों के संघ की याचिका पर अवमानना का दोषी करार दिया। शीर्ष अदालत ने माल्या को 10 जुलाई या उससे पहले अदालत के समक्ष पेश होने का आदेश दिया है। कोर्ट ने उन्हें इस मामले में समन भी जारी किया है। फिलहाल माल्या लंदन में हैं, पिछले साल 2 मार्च को उन्होंने भारत छोड़ा था। उन्हें प्रत्यर्पित करने की तैयारी शुरू की जा चुकी है। 2 मई…