1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. 5 अरब डॉलर की वृद्धि ने भंडार को जीवन के नए उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिया है

5 अरब डॉलर की वृद्धि ने भंडार को जीवन के नए उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिया है

18 जून को पिछले सप्ताह में, भंडार 4.418 अरब डॉलर घटकर 603.933 अरब डॉलर हो गया था।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

निरंतर प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) और विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI) के अंतर्वाह से पिछले कुछ हफ्तों में विदेशी मुद्रा – या विदेशी मुद्रा – भंडार में लाभ हुआ है। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान, विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि विदेशी मुद्रा आस्तियों (FCA) में वृद्धि के कारण हुई  जो कि समग्र भंडार का एक प्रमुख घटक है

पढ़ें :- Reliance Brands Limited : रिलायंस ब्रांड्स ने वैश्विक फूड चेन ‘PRET A MANGER’ से मिलाया हाथ, फूड इंडस्ट्री में भी दिखेगी धमक

आरबीआई के आंकड़ों से पता चलता है कि 25 जून, 2021 को समाप्त सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार $ 5.066 बिलियन बढ़कर $ 608.999 बिलियन के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया। 18 जून को पिछले सप्ताह में, भंडार 4.418 अरब डॉलर घटकर 603.933 अरब डॉलर हो गया था।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के साप्ताहिक आंकड़ों से पता चलता है कि एफसीए 4.7 अरब डॉलर बढ़कर 566.24 अरब डॉलर हो गया। डॉलर के संदर्भ में व्यक्त की गई, विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों में विदेशी मुद्रा भंडार में रखे गए यूरो, पाउंड स्टर्लिंग और जापानी येन जैसी गैर-अमेरिकी मुद्राओं की सराहना या मूल्यह्रास का प्रभाव शामिल है।

आंकड़ों से पता चलता है कि समीक्षाधीन अवधि में सोने का भंडार 365 मिलियन डॉलर बढ़कर 36.296 बिलियन डॉलर हो गया।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 1.498 अरब डॉलर पर अपरिवर्तित रहे। आईएमएफ के साथ देश की आरक्षित स्थिति सप्ताह में $ 1 मिलियन से $ 4.965 बिलियन तक मामूली रूप से बढ़ी, जैसा कि आंकड़ों से पता चलता है।

पढ़ें :- शेयर बाजारों उथल-पुथल जारी, टॉप-10 अरबपतियों की लिस्ट में मुकेश अंबानी को बड़ा झटका

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...