पाकिस्तान ने पत्नी और पति की मुलाकात को ‘प्रोपेगेंडा का हथियार’ बना दिया: विदेश मंत्री

sushama-swaraj-pakistan

Sushma Swaraj To Make Statements In Loksabha And Rajya Sabha On Kulbhushan Jhadav

नई दिल्ली। पाकिस्तान में कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी से मुलाक़ात के दौरान हुए दुर्व्यवहार पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद में बयान देते मुलाकात के तरीके को अमानवीय बताया। उन्होंने कहा कि इस मुलाकात में मानवता और सद्भाव का अभाव था। सुषमा ने कहा कि पाकिस्तान ने इसे ‘प्रोपेगेंडा का हथियार’ और ‘स्थिति को भुनाने के अवसर’ के तौर पर पेश किया।

सुषमा स्वराज ने इस्लामाबाद में विदेश विभाग में इस मुलाकात के तरीके की निंदा की। उन्होंने जाधव की मां और पत्नी के कपड़े बदलवाने, सुहाग की निशानियों सिंदूर, चूड़ियों और मंगलसूत्र उतरवाने की कड़ी आलोचना की। सुषमा ने कहा, कुलभूषण जाधव ने अपनी मां के गले में मंगलसूत्र नहीं देखकर पूछा कि बाबा कैसे हैं?

विदेश मंत्री ने कहा, “जिस तरह से यह मुलाकात करवाई गई, वह अपमानजनक थी। उनके कपड़े, जूते, चूड़ियां, यहां तक की मंगलसूत्र तक उतरवा लिए गए। उनके मानवधिकारों का बार-बार उल्लंघन किया गया और उनके लिए भय का माहौल बनाया गया।” सुषमा ने कहा कि इतनी पीड़ा के बाद एक मां और बेटे की मुलाकात, एक पत्नी और पति की मुलाकात को ‘प्रोपेगेंडा का हथियार’ बना दिया गया

बता दें कि कुलभूषण की मां और पत्नी के साथ पाक में हुए व्यवहार को लेकर पूरे देश में गुस्सा है और भारत- पाकिस्तान के बीच भी बयानबाजी जारी है। इससे पहले बुधवार को लोकसभा में यह मुद्दा गर्माया रहा। मुलाकात से पहले जाधव की मां और पत्नी के मंगलसूत्र, बिंदी और चूड़ियां उतारने को लेकर सांसदों ने पार्टी लाइन से ऊपर उठकर पाकिस्तान के रवैये की निंदा की और सरकार से जवाब मांगा।

राज्‍यसभा में कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बयान का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि कुलभूषण जाधव पर जो भी आरोप लगाए गए हैं, वे झूठे और फर्जी हैं। पाकिस्तान में कोई लोकतंत्र नहीं है, हम पाकिस्तान को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं। जाधव की मां-पत्नी के साथ जो भी हुआ है, वो पूरे देश का अपमान है।

नई दिल्ली। पाकिस्तान में कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी से मुलाक़ात के दौरान हुए दुर्व्यवहार पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद में बयान देते मुलाकात के तरीके को अमानवीय बताया। उन्होंने कहा कि इस मुलाकात में मानवता और सद्भाव का अभाव था। सुषमा ने कहा कि पाकिस्तान ने इसे 'प्रोपेगेंडा का हथियार' और 'स्थिति को भुनाने के अवसर' के तौर पर पेश किया। सुषमा स्वराज ने इस्लामाबाद में विदेश विभाग में इस मुलाकात के तरीके की निंदा की।…