यहां खुले में किया शौच तो भरना होगा जुर्माना

मोतिहारी: नरेन्द्र मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना ‘स्वच्छ भारत अभियान’ को हर कोई अपने तरीके से परवान चढ़ाना चाहता है। इसी कड़ी में बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के पताही प्रखंड के एक पंचायत में खुले में शौच करते पकड़े जाने पर जुर्माना लगाने का फैसला किया गया है। बताया जा रहा है कि धीरे-धीरे इस प्रखंड के सभी ग्राम पंचायतों में इसे लागू करने पर विचार किया जा रहा है। पताही प्रखंड के परसौनी कपूर ग्राम पंचायत में खुले में शौच करते पकड़े जाने पर न केवल एक सौ रुपये से लेकर तीन सौ रुपये तक जुर्माना लगाने का फैसला किया गया है, बल्कि इसकी सूचना देने वालों को भी पंचायत के मुखिया की ओर से एक सौ रुपये इनाम देने की भी घोषणा की गई है।




पताही के प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) अमर कुमार ने शुक्रवार को बताया कि इस पंचायत में करीब चार हजार लोग रहते हैं तथा लगभग सभी घरों में शौचालय हैं। फिर भी ऐसा देखा जा रहा है कि कई लोग अभी भी खुले में शौच के लिए जाते हैं। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों स्वच्छता अभियान के प्रखंड कॉर्डिनेटर, मुखिया तथा गांव के अन्य गणमान्य लोगों की बैठक आयोजित की गई और ऐसा करने वालों पर जुर्माना लगाने का फैसला किया गया।

उन्होंने बताया कि लोगों में खुले में शौच से होने वाली बुराइयों को बताकर जनजागरण अभियान भी चलाया जा रहा है। कुमार ने बताया, “संपूर्ण पंचायत को स्वच्छ बनाने की दिशा में यह निर्णय किया गया है। नियम के उल्लंघन करने वाले व्यक्ति को सामाजिक स्तर पर भी दंडित किया जाएगा।” इस निर्णय पर अमल करवाने के लिए एक 12 सदस्यीय एक निगरानी समिति भी बनाई गई है, जो सुबह चार बजे से छह बजे तक दो घंटे तक क्षेत्रों में निगरानी करेगी। ऐसे में जो खुले में शौच करते पकड़ा जाएगा उससे जुर्माना वसूल किया जाएगा।




उधर, परसौनी कपूर पंचायत के मुखिया अनिल कुमार सिंह कहते हैं कि पंचायत को पूर्णरूप से स्वच्छ बनाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए प्रशासन को भी पूरा सहयोग किया जा रहा है। सभी लोग अपने-अपने स्तर पर इस अभियान में भागीदारी निभाने को तैयार हैं। उन्होंने बताया कि पंचायत में लोगों को जागरूक करने तथा खुले में शौच नहीं जाने की चेतावनी देने के लिए मशाल जुलूस और डुगडुगी बजाकर संदेश भी दिया जा रहा है। बीडीओ ने बताया कि पताही (पश्चिमी) ग्राम पंचायत में भी गुरुवार को एक बैठक आयोजित की गई। वहां भी ऐसी ही एक समिति बनाने का फैसला किया गया। उन्होंने बताया कि पताही प्रखंड को 2017 तक खुले में शौच से मुक्त प्रखंड बनाए जाने का लक्ष्य रखा गया है।