स्वतंत्र देव सिंह यूपी और चंद्रकांत पाटिल बने महाराष्ट्र के बीजेपी अध्यक्ष

awatantradev singh
स्वतंत्र देव सिंह यूपी और चंद्रकांत पाटिल बने महाराष्ट्र के बीजेपी अध्यक्ष

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष महेन्द्रनाथ पाण्डेय के केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद अमित शाह ने स्वतंत्र देव सिंह को उत्तर प्रदेश बीजेपी की कमान सौंपी है। वो मौजूदा वक्त योगी कैबिनेट में परिवहन मंत्री भी है। वहीं महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष की कुर्सी पर चंद्रकांत पाटिल को बैठाया गया है।

Swatantra Dev Singh Up And Chandrakant Patil Became Bjp President Of Maharashtra :

बता दें कि महेन्द्रनाथ पाण्डेय के केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद से उत्तर प्रदेश में बीजेपी अध्यक्ष पद को लेकर तरह—तरह की चर्चाएं चल रही थी। इस दौड़ में बीजेपी के कई वरिष्ठ नेता थे। फिलहाल स्वतंत्र देव सिंह के नाम पर पार्टी हाईकमान की मुहर लगने के बाद इन चर्चाओं पर विराम लग गया।

बता दें कि स्वतंत्र देव सिंह 1986 में आरएसएस से जुड़कर संघ प्रचारक के रूप में काम किया। इसके बाद 1988-89 तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् में संगठन मंत्री बने। 1991 में बीजेपी कानपुर के युवा शाखा मोर्चा प्रभारी बने। बाद में उन्हें 1994 में बुंदेलखंड के युवा मोर्चा के प्रभारी के रूप में राजनीति में कदम रखा। उन्हें पार्टी ने 1996 में युवा मोर्चा का महामंत्री नियुक्त किया। 1998 में उन्हें दुबारा बीजेपी प्रदेश युवा मोर्चा का महामंत्री बनाया गया। वे 2001 में बीजेपी के युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष भी बने।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष महेन्द्रनाथ पाण्डेय के केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद अमित शाह ने स्वतंत्र देव सिंह को उत्तर प्रदेश बीजेपी की कमान सौंपी है। वो मौजूदा वक्त योगी कैबिनेट में परिवहन मंत्री भी है। वहीं महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष की कुर्सी पर चंद्रकांत पाटिल को बैठाया गया है। बता दें कि महेन्द्रनाथ पाण्डेय के केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद से उत्तर प्रदेश में बीजेपी अध्यक्ष पद को लेकर तरह—तरह की चर्चाएं चल रही थी। इस दौड़ में बीजेपी के कई वरिष्ठ नेता थे। फिलहाल स्वतंत्र देव सिंह के नाम पर पार्टी हाईकमान की मुहर लगने के बाद इन चर्चाओं पर विराम लग गया। बता दें कि स्वतंत्र देव सिंह 1986 में आरएसएस से जुड़कर संघ प्रचारक के रूप में काम किया। इसके बाद 1988-89 तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् में संगठन मंत्री बने। 1991 में बीजेपी कानपुर के युवा शाखा मोर्चा प्रभारी बने। बाद में उन्हें 1994 में बुंदेलखंड के युवा मोर्चा के प्रभारी के रूप में राजनीति में कदम रखा। उन्हें पार्टी ने 1996 में युवा मोर्चा का महामंत्री नियुक्त किया। 1998 में उन्हें दुबारा बीजेपी प्रदेश युवा मोर्चा का महामंत्री बनाया गया। वे 2001 में बीजेपी के युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष भी बने।