स्वाती सिंह बनी यूपी बीजेपी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष

लखनऊ। मायावती को लेकर विवादित टिप्पणी करने वाले बीजेपी के पूर्व नेता दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाती सिंह को पार्टी ने प्रदेश पार्टी महिला मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। स्वाती सिंह के अलावा पार्टी ने सांसद कौशल किशोर को अनुसूचित मोर्चा, सांसद छोटेलाल ख़रवार अनुसूचित जनजाति मोर्चा और हैदर अब्बास चाँद को अल्पसंख्यक मोर्चे का अध्यक्ष नियुक्त किया है। यह जानकारी यूपी बीजेपी के महामंत्री विजय बहादुर पाठक ने सोशल मीडिया के माध्यम से दी है।




मिली जानकारी के मुताबिक पार्टी स्वती सिंह को पार्टी ने बड़ी जिम्मेदारी दिए जाने की वजह के रूप में प्रदेश भर में उन्हें मिल रहे समर्थन के रूप में देखा जा रहा है। स्वाती सिंह ने जिस तरह पति दयाशंकर सिंह के विवादों में फंसने के बाद मायावती के खिलाफ मोर्चा संभाला उसके बाद से ही उन्हें पार्टी में बड़ा पद मिलने की उम्मीद की जा रही थी। स्वाती सिंह उन ​परिस्थितियों में एक तेज तर्रार महिला के रूप में न सिर्फ मायावती से टक्कर लेतीं नजर आईं, बल्कि एक मंझे हुए नेता की तरह अपने विरोधियों को हर स्तर पर मात देतीं रहीं। जिस वजह से बीएसपी के हाथ आया एक अच्छा अवसर जाता रहा और अन्त में इस मुद्दे पर बीएसपी को अपने हथियार डालने पड़े।

जानकारों की माने तो स्वाती सिंह को लेकर बीएसपी नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकि द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी के बाद प्रदेश भर की महिलाओं और क्षत्रीय समाज की संवेदना उन्हें मिली थी। दयाशंकर सिंह के जिस बयान से यूपी बीजेपी खुद को बैकफुट पर महसूस कर रही थी उसी बीजेपी को स्वाती सिंह ने एक सामान्य महिला के रूप में नया नेतृत्व देकर एक विषम राजनीतिक परिस्थिति से बाहर लाने का काम किया था। वर्तमान समय में भी स्वाती सिंह यूपी भर में भ्रमण कर लोगों से संपर्क कर मायावती के​ खिलाफ अभियान चला रहीं हैं। जिसमें बीजेपी बाहरी तौर पर उन्हें अपना समर्थन दे रही थी।




सूत्रों की माने तो स्वाती सिंह के मुख्य राजनीतिक धारा में लाने के बाद यूपी बीजेपी उन्हें बीएसपी के शीर्ष नेतृत्व के खिलाफ हथियार के रूप में प्रयोग करेगी। इसके साथ ही स्वाती सिंह को बड़ा पद देकर दया ​शंकर सिंह के नि​ष्कासन से नाराज उनके समर्थकों का एकबार फिर पार्टी में विश्वास बढ़ेगा।

स्वाती सिंह के आने से बीजेपी की महिला नेताओं में नाराजगी

स्वाती सिंह को सीधे यूपी बीजेपी महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनाए जाने से पहले से सक्रिय कई महिला नेताओं ने नाराजगी भी जाहिर की है। दबी जुबान से महिला नेताओं का कहना है कि स्वाती सिंह अभी तक पार्टी की सामान्य सदस्य भी नहीं थीं। अगर पार्टी का प्रदेश नेतृत्व रातों रात उन्हें महिला मोर्चा पर थोपने की कोशिश करेगा तो महिला मोर्चा में पहले से काम कर रही टीम का मनोबल टूटेगा। सालों से पार्टी के लिए पसीना बहा रहे लोगों में नाराजगी होगी।