1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. तमिलनाडु के कोयंबटूर में स्वाइन फ्लू की रिपोर्ट: जानिए इसके के बारे में लक्षण, इलाज और बहुत कुछ

तमिलनाडु के कोयंबटूर में स्वाइन फ्लू की रिपोर्ट: जानिए इसके के बारे में लक्षण, इलाज और बहुत कुछ

H1N1 फ्लू के रूप में भी जाना जाता है, स्वाइन फ्लू इन्फ्लूएंजा वायरस के H1N1 तनाव के कारण होता है। यह सूअरों से उत्पन्न होता है लेकिन एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

तमिलनाडु में कोयंबटूर में स्वाइन फ्लू के दो मामले सामने आए हैं और मरीजों का पीलामेडु के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। इस साल यह पहली बार है जब शहर ने सकारात्मक मामले दर्ज किए हैं। खबर सामने आते ही जिला प्रशासन ने जनता के लिए एडवाइजरी जारी कर ‘फेस मास्क’ पहनना अनिवार्य कर दिया।

पढ़ें :- राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस 2021: जानिए महत्व, उद्देश्य और क्यों मनाया जाता है यह दिन

जैसा कि एक बार फिर देश में स्वाइन फ्लू के मामले सामने आ रहे हैं, यहां हम इसके कारणों, लक्षणों और उपचार के बारे में विस्तृत जानकारी के साथ हैं।

स्वाइन फ्लू क्या है और इसके कारण?

H1N1 फ्लू के रूप में भी जाना जाता है, स्वाइन फ्लू इन्फ्लूएंजा वायरस के H1N1 तनाव के कारण होता है। यह सूअरों से उत्पन्न होता है लेकिन एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। अगस्त 2010 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे एक महामारी घोषित किया और फ्लू के मौसम के दौरान फैलता है।

H1N1 कई फ्लू वायरस उपभेदों में से एक है जो मौसमी फ्लू का कारण बन सकता है। यह संक्रामक है और हवा के माध्यम से तेजी से फैल सकता है, यानी वायरस दरवाजे की कुंडी, टेबल आदि पर रह सकता है।

पढ़ें :- Winter vegetables: हरी पत्तेदार सब्जियां ठंड में आपको रखेगी चुस्त दुरुस्त, बीमारियां रहेंगी कोसों दूर

कारण

स्वाइन फ्लू लार और बलगम के कणों से फैल सकता है।

– छींक आना

– खाँसना

– रोगाणु से ढकी सतह को छूना और फिर आंख या नाक को छूना

पढ़ें :- विश्व एड्स दिवस 2021: जानिए तिथि, इतिहास, विषय और एचआईवी के शुरुआती लक्षण

स्वाइन फ्लू के लक्षण

स्वाइन फ्लू के लक्षण मौसमी फ्लू के समान ही होते हैं जैसे:

– ठंड लगना

– बुखार

– खाँसना

– बहती या भरी हुई नाक

पढ़ें :- एनएफएचएस डेटा: पुरुष, भारत में 5 साल से कम उम्र के बच्चे पहले से कहीं ज्यादा मोटे

– थकान

– दस्त

– गले में खराश

– मतली और उल्टी

– शरीर में दर्द

स्वाइन फ्लू का इलाज

यदि आप उपरोक्त लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करें और जांच के लिए जाएं। उपचार के दौरान, रोगी को पूर्ण आराम करना चाहिए, इससे प्रतिरक्षा प्रणाली को घातक संक्रमण से लड़ने पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, निर्जलीकरण को रोकने के लिए भरपूर पानी पीना चाहिए या सूप भी पी सकते हैं, जबकि सूप खोए हुए पोषक तत्वों को बहाल करने में मदद करेगा।

पढ़ें :- काम के बोझ से तनाव महसूस कर रहे हैं? अपनी मुद्रा में सुधार करने के लिए इन 15 मिनट की योग दिनचर्या को आजमाएं

स्वाइन फ्लू से बचाव

– अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोएं या सैनिटाइजर से साफ करें।

– अपनी नाक, मुंह या आंखों को न छुएं, क्योंकि वायरस सतहों पर जीवित रह सकता है

– अगर आप बीमार महसूस कर रहे हैं, तो घर पर रहें और अपने शरीर पर तनाव डालने से बचें

– साथ ही, स्वाइन फ्लू के मौसम में बड़ी सभाओं से बचें

अस्वीकरण: सलाह सहित यह content केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से qualified medical opinion का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से सलाह लें। Parda Phash इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...