1. हिन्दी समाचार
  2. नीरव मोदी और उसकी बहन के चार बैंक खाते स्विट्जरलैंड में फ्रीज, 283 करोड़ रुपये थे जमा

नीरव मोदी और उसकी बहन के चार बैंक खाते स्विट्जरलैंड में फ्रीज, 283 करोड़ रुपये थे जमा

Switzerland Nirav Modi Bank Accounts Assets Seized

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) घोटाले के मुख्य आरोपी और भगोड़े नीरव मोदी पर एजेंसियों ने बड़ा शिकंजा कसा है। जांच एजेंसियों ने इस मामले में नीरव मोदी और उनकी बहन पूर्वी मोदी से जुड़े चार बैंक खातों को स्विट्ज़रलैंड में सीज़ किया है।

पढ़ें :- सीएम योगी ने पीड़िता के पिता से की बात, आर्थिक मदद के साथ परिवार के सदस्य को नौकरी और घर देने का ऐलान

इनके चार बैंक अकाउंट थे, जिनमें करीब 283 करोड़ रुपये जमा थे। ED ने स्विस अधिकारियों से इसकी अपील की थी। मामला मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा हुआ है। ED के अधिकारियों ने स्विस अधिकारियों से कहा कि ये पैसे भारतीय बैंकों से गलत तरीके से लिए गए थे।

बता दें कि भारत के सरकारी बैंकों से करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी करके लंदन भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी पर शिकंजा कसता दिख रहा है। लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने नीरव मोदी की जमानत याचिका चौथी बार खारिज कर दी है। ऐसे में उसे अभी लंदन की जेल में और दिन गुजरना होगा।

नीरव मोदी कई बैंकों को 13 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाकर पिछले करीब 15 महीने से फरार है। नीरव मोदी की साजिश की वजह से पीएनबी बैंक की आर्थिक रफ्तार रुक गई थी। शेयर लुढ़क कर जमीन पर पहुंच गया था।

मामले का खुलासे होते ही हड़कंप मच गया था। इस बीच नीरव मोदी देश छोड़कर फरार हो गया। लेकिन तभी से भारत सरकार नीरव मोदी स्वदेश लाने की कोशिश में जुट गई थी। नीरव मोदी की लंदन में गिरफ्तारी हुई थी।

पढ़ें :- महिला सुरक्षा को लेकर सड़क से संसद तक हंगामा करने वाले आखिर हाथरस केस पर क्यों हैं मौन?

ऐसे में अब नीरव मोदी को लेकर ये बड़ी खबर का आना एजेंसियों के लिए कामयाबी है। बता दें कि नीरव मोदी अभी लंदन में है और न्यायिक हिरासत में है। वह चार बार अदालत में ज़मानत के लिए याचिका दायर कर चुका है लेकिन हर बार उसे नाकामी ही हाथ लगी है। लंदन की कोर्ट ने हर बार उसकी याचिका को खारिज किया है।

फरवरी 2018 में जब PNB घोटाला देश के सामने आया था, तभी से ही नीरव मोदी फरार है और एजेंसियां उसकी तलाश कर रही हैं। तब से लेकर अब तक उसकी देश में कई करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की जा चुकी है लेकिन अबकी बार विदेशी संपत्ति पर बड़ा हाथ लगा है।

इसी साल 19 मार्च को नीरव मोदी को लंदन में गिरफ्तार किया गया था। तभी से ही भारतीय एजेंसियां उसे भारत लाने में जुटी हैं और ब्रिटेन के साथ उसके प्रत्यर्पण की बात की जा रही है। भारत में CBI और ED नीरव मोदी से जुड़े मामले की जांच कर रही हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...