कालेज के दिनों में छेड़छाड़ का शिकार हुई थी ये एक्ट्रेस

मुंबई| महानायक अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म ‘पिंक’ में काम कर चुकी तापसी पन्नू आजकल खूब सुर्खियां बटोर रही है। तापसी पन्नू ने अपने बारे में बताया कि कालेज के दिनों में उनके साथ खूब छेड़छाड़ होती थी लेकिन उस वक्त वो कुछ बोल नहीं पाती थी।




महिलाओं के लिए जो लोगों की गलत सोच है उस पर आधारित इस फिल्म की तीनों अभिनेत्रियों (तापसी पन्नू, कीर्ति कुल्हरी और एंड्रिया तरांग) ने फिल्म की सफलता के बाद मीडिया से कहा कि हमारे देश को पिंक जैसी फिल्मों की बहुत जरूरत है जिससे लोगों की सोच में थोड़ा बदलाव आए महिलाओं के बारे में जो पुरानी अवधारणा बनी हुई है वो न रहे। तपसी पन्नू ने अपना ही उदाहरण देते हुए बताया कि कालेज के दिनों में उन्हें भी लोगों की छेड़छाड़ का शिकार होना पड़ता था। आए दिन कहीं न कहीं कुछ घटनाएं होती थी यहां तक कि कुछ लोग तो गलत जगह हाथ लगाने से भी नहीं झिझकते थे लेकिन उस समय वो चुप रह जाती थी। न ही वह कुछ कह नहीं पाती थी, न उनके खिलाफ कुछ कर पाती थी।

तापसी ने बताया, “हमारे समाज में आप लड़कों को पलट कर जवाब नहीं दे सकते हैं लेकिन अब समय बदल रहा है और आज किसी तरह का शोषण सहन करना ग़लत होगा। यदि आपके साथ कुछ भी गलत हो रहा तो आप उसके खिलाफ आवाज उठाओ उसकी शिकायत करो। महिलाओं के लिए कई क़ानून भी बन गए हैं जिसके बारे में हमें पूरी जानकारी होनी चहिये और उन कानूनों का सही जगह इस्तेमाल भी होना चाहिए। आपकी चुप्पी आपकी सबसे बड़ी कमजोरी बन सकती है इसलिए समय रहते ही सही कदम उठाना चाहिए।”

वहीँ, फिल्म की अन्य अभिनेत्री कीर्ति की माने तो महिला हो या पुरूष हर किसी को प्यार और रिश्ते को ज़ाहिर करने का हक़ है। यदि कोई भी इन ज़ज़्बातों को महसूस करता है तो उसमे कोई बुराई नहीं है और हां लड़का हो या लड़की उसकी वर्जिनिटी उसका निजी मामला है। हालांकि महिलाओं को इस मामले में कटघरे में खड़ा कर दिया जाता है। वहीँ, मेघालय से आई अभिनेत्री एंड्रिया तरांग के मुताबिक नार्थ-ईस्ट की होने के कारण उन्हें ज्यादा भेदभाव सहन करना पड़ा।

आस्था सिंह की रिपोर्ट