1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. तब्लीगी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा-अभिव्यक्ति की आजादी का हाल के समय सबसे ज्यादा दुरुपयोग

तब्लीगी मामला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा-अभिव्यक्ति की आजादी का हाल के समय सबसे ज्यादा दुरुपयोग

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। तबलीगी जमात से जुड़ी याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाल के समय में अभिव्यक्ति की आजादी का सबसे अधिक दुरुपयोग हो रहा है। इन याचिकाओं में तबलीगी जमात के खिलाफ फेक न्यूज प्रसारित करने और निजामुद्दीन मरकज घटना का सांप्रदायिक रूप देने का का आरोप लगाकर टीवी चैनलों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है। चीफ जस्टिस एसए बोबड़े की अगुआई वाली पीठ ने केंद्र सरकार की ओर से दायर हलफनामे पर भी कड़ी प्रतिक्रिया दी और कहा कि इसे किसी जूनियर अधिकारी द्वारा फाइल किया गया है।

पढ़ें :- Maharashtra Politics: उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट में खींचतान बढ़ी, अब किसको मिलेगा शिवसेना का धनुष-बाण?

साथ ही कहा कि इसमें याचिकाकर्ता द्वारा उठाए गए गलत रिपोर्टिंग के एक भी मामले को विशिष्ट रूप से संबोधित नहीं किया गया है। चीफ जस्टिस बोबड़े ने सॉलिसिटर जनरल से कहा, ”आप इस कोर्ट के साथ इस तरह का व्यवहार नहीं कर सकते हैं। हलफमाना एक जूनियर अधिकारी द्वारा दायर किया गया है। यह बहुत गोलमोल है और खराब रिपोर्टिंग की किसी घटना पर प्रतिक्रिया नहीं है।” कोर्ट ने मेहता से यह सुनिश्चित करने को कहा कि संबंधित विभाग के सचिव नया हलफनामा दायर करें।

चीफ जस्टिस ने कहा, ”सचिव को हमें बताना है कि वह विशिष्ट घटनाओं (याचिकार्ता की ओर से उठाए गए) के बारे में क्या सोचते हैं और इस तरह का बेतुका जवाब ना दें जिस तरह अभी दिया गया है।” मामले की अगली सुनवाई दो सप्ताह बाद होगी। बता दें कि जमियत उलेमा-ए-हिंद, पीस पार्टी, डीजे हल्ली फेडरेशन ऑफ मस्जिद मदारिस, वक्फ इंस्टीट्यूट और अब्दुल कुद्दुस लस्कर की ओर से दायर याचिकाओं में आरोप लगाया गया है कि मीडिया की रिपोर्टिंग एकतरफा थी और मुस्लिम समुदाय का गलत चित्रण किया गया।

 

पढ़ें :- प्रशांत किशोर को तेजस्वी पर हमला, कहा-लालू यादव के बेटे हैं इसलिए बने डिप्टी सीएम, नौवीं पास को चपरासी की भी नौकरी नहीं मिलती
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...