Pitru Paksha 2021 News in Hindi

पितृपक्ष 2021: पितृपक्ष में इन चीजों का करें दान, देव तुल्य पितृ गण होते हैं प्रसन्न

पितृपक्ष 2021: पितृपक्ष में इन चीजों का करें दान, देव तुल्य पितृ गण होते हैं प्रसन्न

पितृपक्ष 2021: भारतीय संस्कृति में अपने पूर्वजों के प्रति बहुत ही श्रद्धा का भाव रहता है। सनातनधर्मी पितृ पक्ष में पितरों का आह्वान करते हैं। पितरों की आत्मा की शान्ति और उनके प्रति आस्था को समर्पित करने लिए शास्त्रों में पिण्ड दान का विधान बताया गया है। श्राद्ध विधान के

पितृ पक्ष 2021( Pitru Paksha 2021): श्राद्ध कौन कर सकता है ,तर्पण करने के ये हैं नियम

पितृ पक्ष 2021( Pitru Paksha 2021): श्राद्ध कौन कर सकता है ,तर्पण करने के ये हैं नियम

पितृ पक्ष 2021: पूर्वजों के प्रति आस्था और श्रद्धा का भाव प्रदर्शित करने की परंपरा को पितृ पक्ष में विशेष प्रकार के नियमों के द्वारा पूरा किया जाता है। पितृपक्ष (Pitru Paksha) के 15 दिनों में पूर्वजों का श्राद्ध किया जाता है। इन दिनों में लोग अपने पूर्वजों के लिए

पितृ पक्ष 2021: श्राद्ध के पक्ष के कारण नहीं करना चाहिए शुभ कार्य,पितरों के प्रति व्यक्त करें श्रद्धा

पितृ पक्ष 2021: श्राद्ध के पक्ष के कारण नहीं करना चाहिए शुभ कार्य,पितरों के प्रति व्यक्त करें श्रद्धा

पितृ पक्ष 2021:  हिन्दू कैलेंडर के अनुसार श्राद्ध पक्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक कुल 16 दिनों तक चलता है। इस बार पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से आरंभ

पितृ पक्ष 2021: पुत्र पौत्र द्वारा किया जाता है श्राद्ध, पितृ लोक में पूर्वजों को भ्रमण करने से मिलती है मुक्ति

पितृ पक्ष 2021: पुत्र पौत्र द्वारा किया जाता है श्राद्ध, पितृ लोक में पूर्वजों को भ्रमण करने से मिलती है मुक्ति

पितृ पक्ष 2021: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार श्राद्ध पक्ष भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण अमावस्या तक कुल 16 दिनों तक चलता है। इस बार पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से आरंभ

Pitru Paksha 2021: चार वेदों में नहीं है पिंडदान या पितृपक्ष का कोई उल्‍लेख, जानिए पितृ पक्ष के बारे मे क्या कहता है साइंस?

Pitru Paksha 2021: चार वेदों में नहीं है पिंडदान या पितृपक्ष का कोई उल्‍लेख, जानिए पितृ पक्ष के बारे मे क्या कहता है साइंस?

नई दिल्ली: हिंदू धर्म में श्राद्ध पक्ष को लेकर काफी मान्‍यताएं प्रचलित हैं। कहा जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान तर्पण करने से पितरों की आत्‍मा को शांति मिलती है और वे प्रसन्‍न होकर हमें आशीर्वाद देते हैं जिससे हमारे जीवन के सभी दुख एवं कष्‍ट दूर हो जाते हैं।

पितृपक्ष 2021: कर्ण की ये कथा देती है सीख कि पूर्वजों के लिए इस काम को करना चहिए

पितृपक्ष 2021: कर्ण की ये कथा देती है सीख कि पूर्वजों के लिए इस काम को करना चहिए

पितृपक्ष 2021: भारतीय संस्कृति में अपने पूर्वजों के प्रति बहुत ही श्रद्धा का भाव रहता है। प्रचीन काल से ही पूर्वज पूजा की प्रथा विश्व के अन्य देशों में होती आ रही है। भारत में यह प्रथा यहाँ वैदिक काल से प्रचलित रही है। सनातनधर्मी पितृ पक्ष में पितरों का आह्वान

पितृपक्ष 2021 : 20 सितंबर को है पहला श्राद्ध, जानिए किस दिन करना है पूवजों के लिए पिंडदान

पितृपक्ष 2021 : 20 सितंबर को है पहला श्राद्ध, जानिए किस दिन करना है पूवजों के लिए पिंडदान

पितृपक्ष 2021: भारतीय संस्कृति में अपने पूर्वजों के प्रति बहुत ही श्रद्धा का भाव रहता है। प्रचीन काल से ही पूर्वज पूजा की प्रथा विश्व के अन्य देशों में होती आ रही है। भारत में यह प्रथा यहाँ वैदिक काल से प्रचलित रही है। सनातनधर्मी पितृ पक्ष में पितरों का आह्वान

पितृ पक्ष 2021: पितृ पक्ष में पितरों को स्मरण करके करें पूर्वजों की सेवा,जानें श्राद्ध तिथि और महत्व

पितृ पक्ष 2021: पितृ पक्ष में पितरों को स्मरण करके करें पूर्वजों की सेवा,जानें श्राद्ध तिथि और महत्व

पितृ पक्ष: हिन्दू धर्म में माता-पिता की सेवा को सबसे बड़ी पूजा माना गया है। हिंदू धर्म शास्त्रों (Hindu scriptures) में पितरों का उद्धार करने के लिए पुत्र की अनिवार्यता मानी गई हैं। जन्मदाता माता-पिता को मृत्यु-उपरांत लोग विस्मृत न कर दें, इसलिए उनका श्राद्ध करने का विशेष विधान बताया