अमर सिंह और जयाप्रदा के कारण नहीं हो सकी मुलायम और अखिलेश की सुलह

लखनऊ। मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच दो फाड़ हो चुकी समाजवादी में गुरूवार को जागी सुलह की उम्मीद को अमर सिंह और जयाप्रदा की मौजूद का ग्रहण लग गया। सूत्रों की माने तो गुरूवार को मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव को दिल्ली से लखनऊ बुलाने की जिम्मेदारी लेने वाले मो0 आजम खां को जब इस बात की जानकारी हुई कि मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव के साथ चार्टर विमान में अमर सिंह और जयाप्रदा भी लखनऊ के लिए रवाना हुए है, वैसे ही आजम बैकफुट पर आ गए। अमर सिंह और जयाप्रदा की मौजूदगी के चलते ही सीएम अखिलेश यादव भी अपने पिता मुलायम और चाचा शिवपाल को रिसीव करने एयरपोर्ट नहीं गए।




ये हैं फीचर्स
सूत्रों की माने तो गुरूवार को जब मुलायम और शिवपाल को लखनऊ आने के लिए तैयार किया गया उस समय चार लोगों के बीच लखनऊ में बैठक होने की बात हुई थी। जिसमें क्या मुद्दे होंगे और क्या शर्तें रहेंगी यह भी निर्धारित हो गईं थीं। बहुत हद तक उम्मीद थी कि दोनों पक्ष एक दूसरे से अपने गिले शिकवे दूर कर एक हो जाएंगे और पार्टी में मचे घमासान को एक सुलह के साथ समाप्त कर दिया जाएगा।

इस बीच लखनऊ में मुलायम और शिवपाल के आने का इंतजार कर रहे मो0 आजम खां और अखिलेश यादव को जैसे ही इस बात की जानकारी मिली कि मुलायम और शिवपाल के साथ अमर सिंह और जयाप्रदा भी विमान में सवार हुए हैं, वैसे ही आजम खां अपने आवास पर चले गए और अखिलेश यादव ने भी पिता मुलायम को एयरपोर्ट पर रिसीव करने की योजना निरस्त कर दी।




ये हैं फीचर्स
इसके बाद से जो हुआ सभी जानते हैं कि किस तरह से शुक्रवार को दोनों गुटों के लोग एक कोठी से दूसरी कोठी के चक्कर लगाते रहे। हालांकि इस बीच एकबार फिर उम्मीद जागी है कि दोनों गुटों को एक करने का अखिरी प्रयास जारी है। कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी सिंबल को बचाने के लिए दोनों गुट एक हो जाएंगे।