मोबाइल का IMEI नंबर बदलने पर होगी तीन साल की सजा, जारी हुई अधिसूचना

imei

नई दिल्ली। मोबाइल के आईएमईआई(IMEI) नंबर से छेड़खानी करना अब आपको भारी पड़ सकता है। ऐसा करने पर आपको तीन साल की सजा और जुर्माना भी हो सकता है। सरकार की तरफ से जारी नये नियम के मुताबिक मोबाइल के IMEI नंबर से छेड़खानी करना अपराध की श्रेणी में आ गया है। मोबाइल चोरी पर पर यह नंबर एक साक्ष्‍य की तरह होता है। सरकार की इस पहल का मकसद फेक आईएमईआई नंबर जारी करने से रोकना है।

Tampering Mobile Imei Number To Attract Up To 3 Years Jail :

इस संदर्भ में दूरसंचार विभाग ने 25 अगस्त को एक अधिसूचना जारी की है। अधिसूचना के मुताबिक, अगर अब कोई जानबूझकर मोबाइल के IMEI नंबर से छेड़छाड़ करता है तो उसके खिलाफ पुलिस और केंद्रीय या राज्य की एजेंसियां टेलीग्राफ कानून के तहत मुकदमा दर्ज कर सकती हैं। इसके लिये अधिकतम तीन साल की सजा और जुर्माना हो सकता है।

क्या होता है IMEI नंबर-

किसी मोबाइल का आईएमईआई नंबर 15 अंकों का होता है। इसी नंबर के आधार पर मोबाइल फोन की पहचान होती है। मोबाइल चोरी होने के बाद अक्सर मोबाइल का आईएमईआई नंबर बदल दिया जाता था, जिससे फोन को ढूंढ़ पाना मुश्किल हो जाता था। पुलिस की साइबर सेल फोन के आईएमईआई नंबर के आधार पर फोन की लोकेशन ट्रैक करती है।

ऐसे देखें मोबाइल का IMEI नंबर-

अपने मोबाइल के डायल ऑप्शन में जाकर आपको *#06# लिखना होगा। इसके बाद आपकी स्क्रीन पर 15 अंकों का IMEI नंबर आ जाएगा। फोन खो जाने पर इस नंबर की मदद से आप अपना फोन लॉक कर सकते हैं। ऐसा करके आप किसी व्यक्ति को अपना मोबाइल फोन यूज करने से रोक सकते हैं।

नई दिल्ली। मोबाइल के आईएमईआई(IMEI) नंबर से छेड़खानी करना अब आपको भारी पड़ सकता है। ऐसा करने पर आपको तीन साल की सजा और जुर्माना भी हो सकता है। सरकार की तरफ से जारी नये नियम के मुताबिक मोबाइल के IMEI नंबर से छेड़खानी करना अपराध की श्रेणी में आ गया है। मोबाइल चोरी पर पर यह नंबर एक साक्ष्‍य की तरह होता है। सरकार की इस पहल का मकसद फेक आईएमईआई नंबर जारी करने से रोकना है।इस संदर्भ में दूरसंचार विभाग ने 25 अगस्त को एक अधिसूचना जारी की है। अधिसूचना के मुताबिक, अगर अब कोई जानबूझकर मोबाइल के IMEI नंबर से छेड़छाड़ करता है तो उसके खिलाफ पुलिस और केंद्रीय या राज्य की एजेंसियां टेलीग्राफ कानून के तहत मुकदमा दर्ज कर सकती हैं। इसके लिये अधिकतम तीन साल की सजा और जुर्माना हो सकता है।क्या होता है IMEI नंबर-किसी मोबाइल का आईएमईआई नंबर 15 अंकों का होता है। इसी नंबर के आधार पर मोबाइल फोन की पहचान होती है। मोबाइल चोरी होने के बाद अक्सर मोबाइल का आईएमईआई नंबर बदल दिया जाता था, जिससे फोन को ढूंढ़ पाना मुश्किल हो जाता था। पुलिस की साइबर सेल फोन के आईएमईआई नंबर के आधार पर फोन की लोकेशन ट्रैक करती है।ऐसे देखें मोबाइल का IMEI नंबर-अपने मोबाइल के डायल ऑप्शन में जाकर आपको *#06# लिखना होगा। इसके बाद आपकी स्क्रीन पर 15 अंकों का IMEI नंबर आ जाएगा। फोन खो जाने पर इस नंबर की मदद से आप अपना फोन लॉक कर सकते हैं। ऐसा करके आप किसी व्यक्ति को अपना मोबाइल फोन यूज करने से रोक सकते हैं।