चेकिंग में प्रतापगढ़ में पकड़े गये 54 लाख रुपये, छानबीन जारी

f

प्रतापगढ़। उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में चुनाव आयोग के उडऩ दस्ते ने कार से 54 लाख रुपये नकद बरामद किए हैं। उडऩ दस्ते में शामिल मैजिस्ट्रेट आशीष पांडेय की टीम ने जिले के संग्रामगढ़ कोतवाली इलाके के खनवारी मोड़ पर एक कार को रोका और जांच करने पर दो बैगों में भरे 54 लाख नौ हजार रुपये बरामद हुए।

Team Of Election Commission Caught Two People With 54 Lakh Cash In Pratapgarh :

इन पैसों के साथ दो आरोपियों को भी पकड़ा गया है। इसे चुनाव के दौरान जिले में अब तक की सबसे बड़ी बरामदगी बताया जा रहा है। पैसे बरामद किए जाने के बाद इसे मैजिस्ट्रेट ने कोषागार के हवाले कर दिया। कोषागार में पुलिस की निगरानी में घंटो तक पैसों की काउंटिंग होती रही।

बरामद की ऑल्टो कार भी पुलिस के ही कब्जे में है। कार सवार दोनों युवकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और पूछताछ की जा रही है। शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि दोनों युवक कुंडा से पैसा लेकर संग्रामगढ़ इलाके में जा रहे थे। बरामद रुपयों के बारे में जब मैजिस्ट्रेट ने पूछताछ की तो वे कोई जवाब नहीं दे सके जिसके चलते इनकम टैक्स विभाग को सूचित कर दिया गया।

आशंका जताई जा रही है कि इतनी भारी मात्रा में कैश का इस्तेमाल चुनाव के दौरान किया जा सकता है। आरोपी हिमांशु जायसवाल खुद को व्यवसायी बता रहे हैं लेकिन वह पैसे के स्रोत के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं दे पाए। एक बार को यह भी कहा कि वह भैया के साथ काम करते हैं लेकिन भैया के बारे में पूछे जाने पर चुप्पी साध ली।

प्रतापगढ़। उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में चुनाव आयोग के उडऩ दस्ते ने कार से 54 लाख रुपये नकद बरामद किए हैं। उडऩ दस्ते में शामिल मैजिस्ट्रेट आशीष पांडेय की टीम ने जिले के संग्रामगढ़ कोतवाली इलाके के खनवारी मोड़ पर एक कार को रोका और जांच करने पर दो बैगों में भरे 54 लाख नौ हजार रुपये बरामद हुए। इन पैसों के साथ दो आरोपियों को भी पकड़ा गया है। इसे चुनाव के दौरान जिले में अब तक की सबसे बड़ी बरामदगी बताया जा रहा है। पैसे बरामद किए जाने के बाद इसे मैजिस्ट्रेट ने कोषागार के हवाले कर दिया। कोषागार में पुलिस की निगरानी में घंटो तक पैसों की काउंटिंग होती रही। बरामद की ऑल्टो कार भी पुलिस के ही कब्जे में है। कार सवार दोनों युवकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और पूछताछ की जा रही है। शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि दोनों युवक कुंडा से पैसा लेकर संग्रामगढ़ इलाके में जा रहे थे। बरामद रुपयों के बारे में जब मैजिस्ट्रेट ने पूछताछ की तो वे कोई जवाब नहीं दे सके जिसके चलते इनकम टैक्स विभाग को सूचित कर दिया गया। आशंका जताई जा रही है कि इतनी भारी मात्रा में कैश का इस्तेमाल चुनाव के दौरान किया जा सकता है। आरोपी हिमांशु जायसवाल खुद को व्यवसायी बता रहे हैं लेकिन वह पैसे के स्रोत के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं दे पाए। एक बार को यह भी कहा कि वह भैया के साथ काम करते हैं लेकिन भैया के बारे में पूछे जाने पर चुप्पी साध ली।