तीन तलाक पर संविधान के अनुरूप सुप्रीम कोर्ट करे इंसाफ: मायावती

लखनऊ। तीन तलाक के मुद्दे पर मुसलमान महिलाओं को बसपा सुप्रीमो मायावती के रूप में एक मजबूत समर्थक मिला है। मायावती ने शुक्रवार को विास जताया कि मुसलमान महिलाओं को इंसाफ सुनिश्चित करने के लिए उच्चतम न्यायालय संविधान के अनुरूप इस बारे में फैसला देगा।




मायावती ने पिछले साल अक्टूबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीन तलाक के मुद्दे पर उनकी राय के लिए आलोचना की थी। उन्होंने कहा था कि ऐसे मसले मुस्लिम समुदाय पर छोड़ दिए जाने चाहिए और राजनीतिक फायदे के लिए विशेष तौर पर चुनाव के मौके पर इसे नहीं उछालना चाहिए।

मायावती ने शुक्रवार को अंबेडकर जयंती के मौके पर पार्टी की ओर से आयोजित कार्यक्र म में कहा, हमारी पार्टी चाहती है कि तीन तलाक के मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय केन्द्र और राज्य की सरकारों की राय के बिना भारतीय संविधान के अनुरूप फैसला दे।




उन्होंने कहा कि मीडिया खबरों को देखें तो ऐसा नहीं लगता कि मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड से जुड़े वरिष्ठ लोग इस बारे में गंभीर हैं कि मुसलमान महिलाओं को तीन तलाक के मुद्दे पर इंसाफ मिले। हमें नहीं लगता कि मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड तीन तलाक पर पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को जल्द न्याय दे सकेगा।