1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. बिहार के विधानसभा में विधायकों के साथ हुई मारपीट का सबूत सौंप, तेजस्वी यादव ने की बर्खास्तगी की मांग

बिहार के विधानसभा में विधायकों के साथ हुई मारपीट का सबूत सौंप, तेजस्वी यादव ने की बर्खास्तगी की मांग

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने बिहार के विधानसभा अध्यक्ष को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कुछ ही दिन पहले हुए विधानसभा में विपक्षी पार्टी के विधायकों पर पुलिसिया मारपीट के सबूत को पेश करते हुए घटना में शामिल लोगो की बर्खास्तगी की मांग की है।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

पटना। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने बिहार के विधानसभा अध्यक्ष को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कुछ ही दिन पहले हुए विधानसभा में विपक्षी पार्टी के विधायकों पर पुलिसिया मारपीट के सबूत को पेश करते हुए घटना में शामिल लोगो की बर्खास्तगी की मांग की है। पत्र के साथ—साथ उन्होंने साक्ष्यों से जुड़ी सीडी को भी सबूत के तौर पर भेजा है। आपको बता दें कि बीतें 23 मार्च को बिहार के विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ था।

पढ़ें :- 7th Pay Commission : होली से पहले सरकारी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में इतने फीसदी हो सकता है इजाफा

बिहार सरकार के द्वारा बिहार में पुलिस बल को कथित तौर पर बगैर वारंट की गिरफ्तारी की शक्ति देने वाले विधेयक Bihar Special Armed Police Bill 2021 को लाने का विरोध विपक्षी पार्टी के विधायकों के द्वारा किया जा रहा था। राजद,कांग्रेस समेत वामदल सभी विपक्षी पार्टी इस कानून का विरोध कर रहे थे। विरोध सिर्फ सदन में ही नहीं हो रहा था विरोध सड़को पर भी उतर आया था। सदन में इस कानून का विरोध करते करते राजद के एक विधायक विधानसभा अध्यक्ष के आसन के करीब चले गये, जहां मार्शल पहुंच गये ताकि सत्ता पक्ष के सदस्यों के साथ उनकी हाथापाई होने से रोका जा सके।

पढ़ें :- मोदी सरकार ने चीन पर फिर की डिजिटल स्ट्राइक,138 सट्टेबाजी और 94 लोन ऐप का किया बैन

इस दौरान दोनो पक्षों में विवाद हो गया। वहां घटना स्थल पर मौजूद मार्शल ने विपक्षी पार्टीयों को सदन के अंदर मारा और महिला विधायकों को भी पुरुषों सरीखा मारा पीटा और घसीटा गया। इस घटना को तेजस्वी यादव ने बिहार में लोकतंत्र की स्थिती को दर्शाने वाला मामला बताया था। उन्होंने सरकार पर ये आरोप लगाया था कि अगर ये कानून सदन में पास होता है तो इस कानून का गलत इस्तेमाल मौजूदा सरकार के द्वारा किया जा सकता है। और ये बिहार राज्य के लोकतंत्र के लिए खतरा है।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...