तेलंगाना सरकार ने की राज्य विधानसभा भंग करने की सिफारिश, जल्द हो सकते हैं चुनाव

telangana cabinet
तेलंगाना सरकार ने की राज्य विधानसभा भंग करने की सिफारिश, जल्द हो सकते हैं चुनाव

नई दिल्ली। तेलंगाना सरकार की गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक में बड़ा फैसला लिया गया। कैबिनेट ने राज्य विधानसभा भंग करने की सिफारिश की। अब मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव फैसले से अवगत कराने के लिए राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन से जल्द ही मुलाकात कर सकते हैं।

Telangana Cm Proposes Issolution Of State Assembly :

बता दें कि पिछले कुछ समय से ऐसी अटकलें चल रही थी कि राव समय पूर्व चुनाव की मांग कर सकते हैं। अब इस फैसले के बाद चुनाव आयोग जल्द ही चुनाव करा सकता है। सामान्य परिस्थितियों में तेलंगाना विधानसभा चुनाव आगामी 2019 लोकसभा चुनाव के समय होगा।

पिछले सप्ताह कांग्रेस ने इस मामले में कोर्ट में जाने की बात की थी। कांग्रेस ने कहा था कि अगर केसीआर विधानसभा को भंग करके जल्द चुनाव की ओर बढ़ते हैं तो फिर पार्टी इस मामले को कोर्ट में चुनौती देगी। बता दें कि इससे पहले रविवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने कैबिनेट बैठक बुलाई थी। जिसके बाद माना जा रहा था कि राज्य में जल्द चुनाव को लेकर विधानसभा को भंग किए जाने का फैसला लिया जा सकता था। हालाकि उस बैठक को इसको लेकर कोई फैसला नही हो सकता था।

नई दिल्ली। तेलंगाना सरकार की गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक में बड़ा फैसला लिया गया। कैबिनेट ने राज्य विधानसभा भंग करने की सिफारिश की। अब मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव फैसले से अवगत कराने के लिए राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन से जल्द ही मुलाकात कर सकते हैं।बता दें कि पिछले कुछ समय से ऐसी अटकलें चल रही थी कि राव समय पूर्व चुनाव की मांग कर सकते हैं। अब इस फैसले के बाद चुनाव आयोग जल्द ही चुनाव करा सकता है। सामान्य परिस्थितियों में तेलंगाना विधानसभा चुनाव आगामी 2019 लोकसभा चुनाव के समय होगा।पिछले सप्ताह कांग्रेस ने इस मामले में कोर्ट में जाने की बात की थी। कांग्रेस ने कहा था कि अगर केसीआर विधानसभा को भंग करके जल्द चुनाव की ओर बढ़ते हैं तो फिर पार्टी इस मामले को कोर्ट में चुनौती देगी। बता दें कि इससे पहले रविवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने कैबिनेट बैठक बुलाई थी। जिसके बाद माना जा रहा था कि राज्य में जल्द चुनाव को लेकर विधानसभा को भंग किए जाने का फैसला लिया जा सकता था। हालाकि उस बैठक को इसको लेकर कोई फैसला नही हो सकता था।