1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Lucknow Weather News : राजधानी लखनऊ सर्द हवाओं से कांपी , 6 डिग्री लुढ़का पारा

Lucknow Weather News : राजधानी लखनऊ सर्द हवाओं से कांपी , 6 डिग्री लुढ़का पारा

Lucknow Weather News : यूपी (UP) में घने कोहरे के साथ गलन भरी भीषण ठंड ने प्रदेशवासियों का जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। हड्डियों तक को कंपा देने वाली ठंड से बुधवार को लोग घरों के भीतर भी ठिठुरते रहे। प्रदेश के अधिकतर जिलों में धूप का इंतजार जारी है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Lucknow Weather News : यूपी (UP) में घने कोहरे के साथ गलन भरी भीषण ठंड (Severe Cold) ने प्रदेशवासियों का जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। हड्डियों तक को कंपा देने वाली ठंड से बुधवार को लोग घरों के भीतर भी ठिठुरते रहे। प्रदेश के अधिकतर जिलों में धूप का इंतजार जारी है।

पढ़ें :- Tripura Assembly Election : त्रिपुरा में BJP ने जारी किया घोषणापत्र , राज्य के विकास पर किया फोकस

मौसम विभाग (Weather Department) ने अगले दो दिनों के लिए प्रदेश के कई हिस्सों में घने कोहरे, शीतलहर (Cold Wave) और कोल्ड-डे कंडीशन (Cold-Day Condition) को लेकर रेड अलर्ट (Red Alert)जारी किया है। कई जिलों के लिए येलो और ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी करते हुए अत्यधिक खराब मौसम की चेतावनी भी जारी की है।

लखनऊ में चुभती हवाओं के बीच सूरज के कोहरे से ढके होने से लोग बुधवावार को कांपते रहे। जबरदस्त ठंड के चलते दिन का पारा 6 डिग्री लुढ़ककर पहुंच गया। मंगलवार को कांपते रहे। जबरदस्त ठंड के चलते दिन का पारा 6.4 डिग्री लुढ़ककर 10.6 डिग्री जा पहुंचा। आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिकों के मुताबिक, फिलहाल लखनऊ के लिए रेड अलर्ट है। यहां कोल्ड डे (Cold Day)  व शीतलहर (Cold Wave) से इनकार नहीं किया जा सकता है।

इससे पहले सुबह की शुरुआत घने कोहरे से हुई। तड़के दृश्यता (Visibility) 50 मीटर तक थी। इसके बाद 8.30 बजे तक अचानक दिखना बंद हो गया। नौ बजे तक दृश्यता शून्य (Visibility Zero)बनी रही। इसके बाद दृश्यता (Visibility) बढ़ी जरूर, पर अधिकतम 800 मीटर ही रही। लोग दिनभर गलन से कांपते रहे।

वरिष्ठ वैज्ञानिक अतुल कुमार सिंह (Senior Scientist Atul Kumar Singh) के मुताबिक, वर्ष 2003 की जनवरी में दिन का तापमान 10.2 डिग्री दर्ज हुआ था। वरिष्ठ वैज्ञानिक मो. दानिश (Senior Scientist Mohd. Danish) ने बताया कि 2011 में भी दिन का तापमान 11 डिग्री के आसपास पहुंचा था। फिलहाल बुधवार और गुरुवार को भी ऐसा ही मौसम रहने के आसार हैं।

पढ़ें :- टीम इंडिया का स्कोर बिना किसी नुकसान के 60 रन पार, रोहित शर्मा की आक्रामक बल्लेबाजी जारी

मंगलवार को घर से निकले लोग ठिठुरते ही दिखे। रोजाना की तुलना में लोग ज्यादा मफलर, कोट, जैकेट, स्वेटर लादे रहे। घरों में भी आग ताप कर तो कहीं रूम हीटर से लोग ठंड को दूर भगाने की कोशिश करते दिखे।

कोल्ड डे और कोल्ड वेव का अंतर भी जानें

मौसम वैज्ञानिक अतुल कुमार सिंह (Senior Scientist Atul Kumar Singh)  के मुताबिक, कोल्ड डे (Cold Day) तब होता है। जब मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से नीचे हो। अधिकतम तापमान सामान्य से 4.5 से 6.4 डिग्री नीचे आने पर भीषण कोल्ड डे (Cold Day)होता है। वहीं, शीतलहर (Cold Wave)तब होती है, जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री के नीचे हो और यह सामान्य से 4.5 से 6.4 डिग्री कम हो जाए। न्यूनतम तापमान चार डिग्री या इससे कम होने पर शीतलहर (Cold Wave) और दो डिग्री तक पारा पहुंच जाने पर भीषण शीत लहर (Cold Wave) होती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...