अमेरिका-ईरान के बीच तनाव जारी, बगदाद में यूएस एंबेसी के बाहर 3 रॉकेट दागे

iran
अमेरिका-ईरान के बीच तनाव जारी, बगदाद में यूएस एंबेसी के बाहर 3 रॉकेट दागे

नई दिल्ली। इराक की राजधानी बगदाद में सोमवार देर रात अमेरिकी दूतावास के पास तीन कत्यूषा रॉकेट दागे गए। हालांकि, इस दौरान किसी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है। जानकारी के अनुसार रॉकेट दागे जाने के तुरंत बाद पूरे क्षेत्र में सायरन सुनाई देने लगा। ग्रीन जोन मध्य बगदाद में है, जहां सरकारी इमारतें और राजनयिक सुविधाएं स्थित हैं।  

Tension Continues Between Us Iran 3 Rockets Fired Outside Us Embassy In Baghdad :

ईरान के सैन्य कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स का नया कमांडर इस्माइल कानी को बनाया गया है। सोमवार को कानी ने कहा कि अमेरिका ने सुलेमानी को कायरतापूर्ण तरीके से मारा। लेकिन, हम अपने दुश्मन को जोरदार तरीके से मारेंगे। अमेरिका ने तीन जनवरी को बगदाद के एयरपोर्ट पर ड्रोन से हमला कर कासिम सुलेमानी को मार दिया था।

ईरान ने 80 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने का दावा किया था

जबावी कार्रवाई में ईरान ने भी बगदाद स्थित अमेरिकी दूतावास पर 7 और 8 जनवरी को हमले किए थे। ईरान के सुप्रीम लीडर अली हसन खामेनेई ने भी सुलेमानी के मारे जाने के बाद से पश्चिम एशिया से सभी अमेरिकी सैनिकों को खदेड़ने की बात कही है। 7 जनवरी को ईरान ने इराक में स्थित दो अमेरिकी सैन्य बेसों पर 22 मिसाइलें दागी थीं। ईरान ने दावा किया था कि अनबर प्रांत में ऐन अल-असद एयर बेस और इरबिल के एक ग्रीन जोन पर हमले में अमेरिका के 80 सैनिक मारे गए।

किसी अमेरिकी सैनिक को नुकसान नहीं हुआ: ट्रम्प

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान के दावे को झूठा करार दिया था। उन्होंने कहा था कि हमारे किसी सैनिक को कोई नुकसान नहीं हुआ है। वहीं, 8 जनवरी को दो रॉकेट दागे गए थे। ग्रीन जोन पर हुए हमलों के लिए अमेरिका ईरान समर्थित अर्धसैनिक समूहों को दोषी ठहराता रहा है।

3 जनवरी को अमेरिकी ड्रोन हमले में सुलेमानी मारा गया था

बगदाद एयरपोर्ट पर तीन जनवरी को अमेरिका द्वारा किए गए ड्रोन हमले में ईरान की इलीट कुद्स सेना के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी और इराक के ईरान समर्थित संगठन- पॉपुलर मोबिलाइजेशन फोर्स (पीएमएफ) के कमांडर अबु महदी अल-मुहंदिस समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद से ईरान और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ गया है।

नई दिल्ली। इराक की राजधानी बगदाद में सोमवार देर रात अमेरिकी दूतावास के पास तीन कत्यूषा रॉकेट दागे गए। हालांकि, इस दौरान किसी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है। जानकारी के अनुसार रॉकेट दागे जाने के तुरंत बाद पूरे क्षेत्र में सायरन सुनाई देने लगा। ग्रीन जोन मध्य बगदाद में है, जहां सरकारी इमारतें और राजनयिक सुविधाएं स्थित हैं।   ईरान के सैन्य कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स का नया कमांडर इस्माइल कानी को बनाया गया है। सोमवार को कानी ने कहा कि अमेरिका ने सुलेमानी को कायरतापूर्ण तरीके से मारा। लेकिन, हम अपने दुश्मन को जोरदार तरीके से मारेंगे। अमेरिका ने तीन जनवरी को बगदाद के एयरपोर्ट पर ड्रोन से हमला कर कासिम सुलेमानी को मार दिया था। ईरान ने 80 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने का दावा किया था जबावी कार्रवाई में ईरान ने भी बगदाद स्थित अमेरिकी दूतावास पर 7 और 8 जनवरी को हमले किए थे। ईरान के सुप्रीम लीडर अली हसन खामेनेई ने भी सुलेमानी के मारे जाने के बाद से पश्चिम एशिया से सभी अमेरिकी सैनिकों को खदेड़ने की बात कही है। 7 जनवरी को ईरान ने इराक में स्थित दो अमेरिकी सैन्य बेसों पर 22 मिसाइलें दागी थीं। ईरान ने दावा किया था कि अनबर प्रांत में ऐन अल-असद एयर बेस और इरबिल के एक ग्रीन जोन पर हमले में अमेरिका के 80 सैनिक मारे गए। किसी अमेरिकी सैनिक को नुकसान नहीं हुआ: ट्रम्प अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान के दावे को झूठा करार दिया था। उन्होंने कहा था कि हमारे किसी सैनिक को कोई नुकसान नहीं हुआ है। वहीं, 8 जनवरी को दो रॉकेट दागे गए थे। ग्रीन जोन पर हुए हमलों के लिए अमेरिका ईरान समर्थित अर्धसैनिक समूहों को दोषी ठहराता रहा है। 3 जनवरी को अमेरिकी ड्रोन हमले में सुलेमानी मारा गया था बगदाद एयरपोर्ट पर तीन जनवरी को अमेरिका द्वारा किए गए ड्रोन हमले में ईरान की इलीट कुद्स सेना के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी और इराक के ईरान समर्थित संगठन- पॉपुलर मोबिलाइजेशन फोर्स (पीएमएफ) के कमांडर अबु महदी अल-मुहंदिस समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद से ईरान और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ गया है।