एक बुरी आदत के चलते सुरक्षाबलों के हत्थे चढ़ा आतंकी अबु दुजाना

आतंकी अबु दुजाना
एक बुरी आदत के चलते सुरक्षाबलों के हत्थे चढ़ा आतंकी अबु दुजाना

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में मंगलवार को भारतीय सुरक्षा बलों को बड़ी सफलता उस समय हाथ लगी जब लश्कर का टॉप कमांडर अबु दुजाना को उसने मार गिराया। हिजबुल कमांडर बुरहान बानी के एनकाउंटर के दुजाना को मार गिराना इस साल सुरक्षा बलों की दूसरी बड़ी कामयाबी माना जा रहा है। स्थानीय पुलिस के मुताबिक दुजाना पिछले सात महीनों में कई बार पुलिस के हत्थे चढ़ चुका था, लेकिन वह हर बार चकमा देकर भाग निकलने में कामयाब हो जाता था। लेकिन उसकी कुछ बुरी आदतें थीं जिनकी वजह से वह जोखिम लेने से नहीं चूकता था।

मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान में पैदा हुआ अबु दुजाना पाकिस्तान में बैठे लश्कर के आकाओं के इशारे पर कश्मीर में आतंकी वारदातों को अंजाम दे रहा था। हाल ही में अमरनाथ तीर्थयात्रियों की बस पर हुए आतंकी हमले में भी दुजाना की भूमिका सामने आई थी।

{ यह भी पढ़ें:- कश्मीर: पुलवामा मुठभेड़ में ढेर हुए लश्कर के दो कमांडर }

सेना और पुलिस के प्रवक्ताओं के मुताबिक दुजाना कश्मीर में आतंकी वारदातों से ज्यादा अय्याशी के लिए जाना जाता था। सुरक्षाबलों ने जिस समय कश्मीर के पुलवामा सेक्टर के हकरीपोरा गांव में आॅपरेशन को अंजाम दिया उस समय दुजाना अपनी पत्नी से मिलने उसके घर गया हुआ था। जहां उसके साथ उसका एक सहयोगी आसिफ लिलहारी भी गया था। सुरक्षाबलों को इस बात की जानकारी थी कि रात के अंधेरे में दुजाना अक्सर अपनी पत्नी के मकान पर जाया करता है। इसी जानकारी के आधार पर सेनाबलों ने आसपास के इलाकों में अपने लोगों को निगेहबानी के लिए तैनात कर रखा था।

सूत्रों की माने तो सुरक्षाबलों को स्थानीय लोगों से ही ऐसे जानकारी मिली थी कि अबु दुजाना ने इलाके के कई घरों को अपनी अय्याशी का अड्डा बना रखा है। इन घरों में रात के अंधेरे में वह अपनी मर्जी से आता जाता था। उसका आतंकवादी होना लोगों के लिए सबसे बड़ी समस्या था। जिस वजह से लोग चाह कर भी उसकी मर्जी को सिर झुकाकर स्वीकार करने के मजबूर थे। उसकी अय्याशी से त्रस्त कुछ परिवारों का विश्वास जीतकर ही सुरक्षाबलों ने दुजाना को मार गिराया।

{ यह भी पढ़ें:- PM मोदी के 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' के पोस्टर में अलगाववादी नेता की तस्वीर }

ऐसा कहा जा रहा है कि दुजाना को पत्थरबाजों की वजह से कई बार भागने का मौका मिला था। इस बार सुरक्षाबलों ने कोई चूक नहीं की। रणनीति के तहत पूरे इलाके की घेराबंदी की गई। जिस मकान में दुजाना और उसका साथी मौजूद था उसके मालिक को परिवार सहित बाहर आने को कहा गया। जिसके बाद पूरे मकान को ही विस्फोटक से उड़ा दिया। आॅपरेशन के बाद मकान से दुजाना और उसके साथी का जला हुआ शव बरामद हुआ।