नगरोटा सैन्य कैंप हुए आतंकी हमले में मेजर समेंत तीन जवान शहीद

जम्मू। जम्मू कश्मीर के नगरोटा स्थित सेना के 16 कोर मुख्यालय के पास 166 मीडियम आर्टिलरी बटालियन कैंप में घुसने की कोशिश में मंलवार की सुबह आतंकवादियों ने हमला बोल दिया। कैंप के गेट पर सुरक्षा में तैनात संतरी पर हैंड ग्रेनेट से हमला करने के बाद भीतर घुसने में कामयाब रहे आतंकवादियों को सेना के जवानों ने किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने से पहले ही रोक लिया।




मिली जानकारी के मुताबिक मंगलवार की सुबह करीब 5.30 बजे एक जोरदार धमाके ने पूरे नगरोटा को हिलाकर रख दिया। जब तक कोई कुछ समझता आतंकवादी 166 मीडियम आर्टिलरी बटालियन के कैंप के भीतर घुस चुके थे। जब तक कैंप के अंदर मौजूद जवान अपने हथियार उठाते आतंकियों ने ताबड़ तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। आतंकी अपने मंसूबों को अंजाम देने की कोशिश करते इससे पहले सेना के जवानों ने उन्हें मुंह तोड़ जवाब देकर पीछे लौटने को मजबूर कर दिया। जिसके बाद आतंकी अंधेरे का फायदा उठाते हुए मौके से भाग निकले। सेना के जवानों के बीच खुद को घिरता देख आतंकियों ने खुद को पास की बस्ती के एक मकान में कैद कर लिया। सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ लगातार जारी है।




सूत्रों के मुताबिक सैन्य कैंप के भीतर घुसे आतंकियों से टकराव के दौरान सेना के एक मेजर और गेट पर ग्रेनेट से हुए हमले में एक संतरी समेंत दो जवान शहीद हो गए। सेना और आतंकियों के बीच जारी मुठभेड़ में एक आतंकी के मारे जाने की खबर भी मिल रही है। लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कैंप में घुसे आतंकियों की संख्या कितनी थी।




सेना ने स्थानीय नागरिकों सुरक्षा को देखते हुए स्थानीय स्कूलों को मंलवार के लिए बंद करवा दिया है। बाजारों और सार्वजनिक जगहों को भी बंद रखने की हिदायत दी गई है। कुछ देर के लिए श्रीनगर हाईवे का ट्रैफिक भी रोका गया था, लेकिन स्थिति को नियंत्रण में होता देख कुछ ही देर में हाईवे को दोबारा खोल दिया गया। हाईवे की सुरक्षा के लिए सेना ने पुख्ता इंतजामात किए हैं।