पुलवामा अटैक: आतंकियों ने पाकिस्तानी सेना के आरडीएक्स का किया था प्रयोग

pulwama attack
पुलवामा अटैक: आतंकियों ने पाकिस्तानी सेना के आरडीएक्स का किया था प्रयोग

नई दिल्ली। जम्मू—कश्मीर के पुलवामा में हुई आतंकी घटना में एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस घटना को अंजाम देने के लिए आतंकियों ने जिस आरडीएक्स का प्रयोग किया था, वो पाकिस्तानी सेना ने मुहैया कराया था। क्योंकि हमले में जिस तीव्र क्षमता के आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल किया गया है, वह डिफेंस फोर्सेज से ही मिलता है।

Terrorists Got Rdx From Pakistan Defense Forces For Pulwama Attack :

जांच में जुटी टीमों ने खुलासा किया कि जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकियों ने पिट्ठू बैग से आरडीएक्‍स को भारत के अंदर तक पहुंचाया था। अभी तक की जांच में पता चला कि इस हमले के लिए संगठन के छह आतंकी भारत आए थे। यहीं नहीं हमले में जिस गाड़ी का प्रयोग किया गया, उसके चेचिस नंबर से भी छेड़छाड़ की गई है। यहीं नहीं जांच टीमों के मुताबिक आतंकियों के पास अभी भी करीब बीस किलो आरडीएक्स मौजूद है, जिससे वो कभी भी कोई घटना अंजाम दे सकते हैं।

वहीं इस बात का खुलासा हुआ है कि ये विस्फोटक घटना से काफी पहले भारत लाया गया था और घटना वाले दिन वहां से 5 से 7 किलोमीटर दूर इसे तैयार किया गया था। वहीं धमाके के लिए करीब 70 किलोग्राम आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल किया गया था, जो 300 किलोग्राम क्षमता वाली चीज को नष्‍ट करने के लिए पर्याप्त् है।

नई दिल्ली। जम्मू—कश्मीर के पुलवामा में हुई आतंकी घटना में एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस घटना को अंजाम देने के लिए आतंकियों ने जिस आरडीएक्स का प्रयोग किया था, वो पाकिस्तानी सेना ने मुहैया कराया था। क्योंकि हमले में जिस तीव्र क्षमता के आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल किया गया है, वह डिफेंस फोर्सेज से ही मिलता है। जांच में जुटी टीमों ने खुलासा किया कि जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकियों ने पिट्ठू बैग से आरडीएक्‍स को भारत के अंदर तक पहुंचाया था। अभी तक की जांच में पता चला कि इस हमले के लिए संगठन के छह आतंकी भारत आए थे। यहीं नहीं हमले में जिस गाड़ी का प्रयोग किया गया, उसके चेचिस नंबर से भी छेड़छाड़ की गई है। यहीं नहीं जांच टीमों के मुताबिक आतंकियों के पास अभी भी करीब बीस किलो आरडीएक्स मौजूद है, जिससे वो कभी भी कोई घटना अंजाम दे सकते हैं। वहीं इस बात का खुलासा हुआ है कि ये विस्फोटक घटना से काफी पहले भारत लाया गया था और घटना वाले दिन वहां से 5 से 7 किलोमीटर दूर इसे तैयार किया गया था। वहीं धमाके के लिए करीब 70 किलोग्राम आरडीएक्‍स का इस्‍तेमाल किया गया था, जो 300 किलोग्राम क्षमता वाली चीज को नष्‍ट करने के लिए पर्याप्त् है।