माछिल सेक्टर में शहीद जवान का शव क्षत-विक्षत कर भागे आतंकी, सेना ने कहा- बदला लेंगे

जम्मू| जम्मू एवं कश्मीर के सीमावर्ती इलाके में शुक्रवार को पाकिस्तान की ओर से कम से कम दो जगहों पर की गई भारी गोलीबारी में तीन आम नागरिक घायल हो गए जबकि माछिल सेक्टर में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया| सेना के मुताबिक पाकिस्तान की तरफ भागने से पहले एक आतंकवादी ने बर्बरता की हदें पार करते हुए शहीद जवान का शरीर क्षत-विक्षत कर दिया| शहीद जवान की पहचान मंजीत सिंह के तौर पर हुई है| वह 17 सिख लाइट इन्फेंट्री में तैनात थे|




सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि नियंत्रण रेखा के पास शुक्रवार शाम को एक मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, जबकि एक जवान भी शहीद हो गया| आतंकियों ने पाकिस्तानी सेना की फायरिंग की आड़ में वापस पाक अधिकृत कश्मीर भागने से पहले शहीद जवान के शव को क्षत-विक्षत कर दिया| अपने जवान की मौत के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्‍तान को धमकी दी है कि इसका बदला लिया जाएगा| इससे पहले सेना के प्रवक्ता ने बताया, पाकिस्तान रेंजर्स ने लालाई चाक, पंसार, पहाड़पुर और लोंडी गांवों में सुबह छह बजे तक भारी गोलीबारी की| यहां दो दर्जन से अधिक घर भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं| इन गांवों में करीब एक दर्जन पशु मारे गए हैं| सीमा सुरक्षा बल ने जवाबी कार्रवाई की और सीमा पार स्थित कई पाकिस्तानी चौकियों को निशाना बनाया|

रक्षा प्रवक्ता ले.कर्नल मनीष मेहता ने कहा, “पाकिस्तानी सेना ने अकारण संघर्ष विराम का उल्लंघन किया और नौशेरा में हमारी चौकियों को निशाना बनाने के लिए 82 एमएम और 120 एमएम मोर्टार, स्वचालित तथा छोटे हथियारों के इस्तेमाल किए|” मेहता ने कहा, “हमारे जवान समुचित और प्रभावी जवाब दे रहे हैं| “भारत और पाकिस्तान नियमित रूप से एक दूूसरे पर साल 2003 में हुए संघर्ष विराम समझौता आरोप लगाते हैं लेकिन जम्मू एवं कश्मीर के उड़ी में सैन्य शिविर पर पाकिस्तानी आतंकियों के हमले के बाद संघर्षविराम के उल्लंघन काफी बढ़ गए हैं|

दोनों देशों की सीमा पर तनाव बढ़ने से सीमावर्ती इलाके के गांवों के अनेक निवासी सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने को मजबूर हुए हैं| आधिकारिक आकलन के अनुसार, सीमावर्ती इलाके से करीब 400 परिवार जम्मू में सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं| बताया जाता है कि गत पांच दिनों में पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा आम नागरिकों और सीमा सुरक्षा बल की सुविधाओं को निशाना बनाए जाने से आर.एस. पुरा सेक्टर में अब्दुल्लीन गांव की पूरी अबादी पलायन कर दूसरी जगह चली गई है|