लखनऊ से जल्द शुरू होगा वंदे भारत ट्रेन का संचालन, ये होगा पहला Route

Vande bharat
भारत का 49 साल पुराना ऐतिहासिक सपना हुआ साकार, जानें क्या है खास

लखनऊ। देश की सबसे तेज रफ्तार से दौड़ने वाली स्वदेश निर्मित ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस का तोहफा राजधानीवासियों को भी मिल सकता है। रेलवे बोर्ड ने लखनऊ से नई दिल्ली के बीच यह ट्रेन चलाने के लिए मंथन शुरू कर दिया है। बोर्ड ने उत्तर रेलवे और उत्तर मध्य रेलवे से ट्रेन के टाइम टेबल और इसके संचालन की संभावनाओं का प्रस्ताव मांगा है।

The Beginning Of Vande Bharati Will Be Started From Lucknow This Will Be The First Route :

दरअसल, पिछले दिनों दोनों ही जोनल के अधिकारियों के साथ रेलवे बोर्ड में नई दिल्ली-कानपुर-लखनऊ रूट पर वंदे भारत एक्सप्रेस को चलाने के लिए एक बैठक भी हुई। ट्रेन को सुबह लखनऊ से नई दिल्ली तक चलाने की तैयारी की जा रही है। बोर्ड इस रूट पर तेजस एक्सप्रेस की जगह वंदे भारत एक्सप्रेस को चला सकता है।

इतना ही नहीं लखनऊ निवासी एस. मणि की टीम ने रेल कोच फैक्ट्री चेन्नई में बिना इंजन वाली सेमी हाई स्पीड ट्रेन 18 को तैयार किया था। बाद में ट्रेन 18 का नाम वंदे भारत एक्सप्रेस रखा गया। यह ट्रेन 220 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से दौड़ने में सक्षम है। पहली वंदे भारत एक्सप्रेस नई दिल्ली से प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक 15 फरवरी से शुरू हुई थी। टेन का नया रैक उत्तर रेलवे जोनल को आवंटित किया गया है।

वहीं, उत्तर रेलवे दो प्रमुख रूटों पर इसे चलाने पर विचार कर रहा है। एक रूट नई दिल्ली से चंडीगढ़ के बीच का है। जबकि दूसरे रूट नई दिल्ली से लखनऊ के बीच वंदे भारत को चलाने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक लखनऊ से कानपुर के बीच तो वंदे भारत एक्सप्रेस की गति कम रहेगी। कानपुर से नई दिल्ली के बीच यह ट्रेन 130 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से दौड़ेगी।

लखनऊ। देश की सबसे तेज रफ्तार से दौड़ने वाली स्वदेश निर्मित ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस का तोहफा राजधानीवासियों को भी मिल सकता है। रेलवे बोर्ड ने लखनऊ से नई दिल्ली के बीच यह ट्रेन चलाने के लिए मंथन शुरू कर दिया है। बोर्ड ने उत्तर रेलवे और उत्तर मध्य रेलवे से ट्रेन के टाइम टेबल और इसके संचालन की संभावनाओं का प्रस्ताव मांगा है। दरअसल, पिछले दिनों दोनों ही जोनल के अधिकारियों के साथ रेलवे बोर्ड में नई दिल्ली-कानपुर-लखनऊ रूट पर वंदे भारत एक्सप्रेस को चलाने के लिए एक बैठक भी हुई। ट्रेन को सुबह लखनऊ से नई दिल्ली तक चलाने की तैयारी की जा रही है। बोर्ड इस रूट पर तेजस एक्सप्रेस की जगह वंदे भारत एक्सप्रेस को चला सकता है। इतना ही नहीं लखनऊ निवासी एस. मणि की टीम ने रेल कोच फैक्ट्री चेन्नई में बिना इंजन वाली सेमी हाई स्पीड ट्रेन 18 को तैयार किया था। बाद में ट्रेन 18 का नाम वंदे भारत एक्सप्रेस रखा गया। यह ट्रेन 220 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से दौड़ने में सक्षम है। पहली वंदे भारत एक्सप्रेस नई दिल्ली से प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक 15 फरवरी से शुरू हुई थी। टेन का नया रैक उत्तर रेलवे जोनल को आवंटित किया गया है। वहीं, उत्तर रेलवे दो प्रमुख रूटों पर इसे चलाने पर विचार कर रहा है। एक रूट नई दिल्ली से चंडीगढ़ के बीच का है। जबकि दूसरे रूट नई दिल्ली से लखनऊ के बीच वंदे भारत को चलाने की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक लखनऊ से कानपुर के बीच तो वंदे भारत एक्सप्रेस की गति कम रहेगी। कानपुर से नई दिल्ली के बीच यह ट्रेन 130 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से दौड़ेगी।