1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. सेंसेक्स में इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट, 2450 अंक लुढ़का, कोरोना, यस बैंक या सऊदी इफेक्ट ?

सेंसेक्स में इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट, 2450 अंक लुढ़का, कोरोना, यस बैंक या सऊदी इफेक्ट ?

नई दिल्ली। देश में एक तरफ जहां कोरोना वायरस का कहर चल रहा है, वहीं देश में यस बैक का संकट आ गया है, जबकि सऊदी अरब ने कच्चे तेल की कीमत घटा दी है। इसी बीच लगातार सेंसेक्स गिरता चला गया और आज भारतीय शेयर बाजार में इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गयी है। आज सेंसेक्स 2450 अंक तक गिर गया वहीं निफ्टी में भी करीब 600 से ज्यादा अंकों की गिरावट दर्ज की गई है।

सेंसेक्स के गिरने के बावजूद यस बैंक के शेयरों में 34 प्रतिशत का उछाल देखा गया। बता दें कि भारतीय शेयर बाजार में यह अब तक की सबसे बड़ी गिरावट है। इससे पहले 24 अगस्त, 2015 को सेंसेक्स 1,624 अंक लुढ़का था। अचानक बाजार में आयी इतनी बड़ी गिरावट से निवेशक घबरा गए हैं। सुबह साढ़े 9 बजे सेंसेक्स 1169.74 अंक गिरकर 36,406.88 पर कारोबार कर रहा था, जबकि निफ्टी 332.40 अंक गिरकर 10,657.05 पर कारोबार कर रहा था। दोपहर 1 बजे सेंसेक्स 2200 अंक से ज्यादा गिर गया और 35,547.27 पर कारोबार कर रहा है।

ये हैं कारण

कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ा
भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 43 हो गई है। केरल में 5 ताजा मामले सामने आए हैं। दुनियाभर में मरीजों की संख्या 1 लाख के पार पहुंच गई है। इटली में 1.5 करोड़ लोगों पर ट्रैवल बैन लगा है। दुनिया भर में कोरोना के मरीजों की संख्या 106,893 हो गई है। दुनिया भर में अब तक 3,639 लोगों की मौत हो चुकी है।

सऊदी अरब का कच्चे तेल की कीमत कम करना
ओपेक देशों और रूस के बीच प्राइस वार छिड़ने से क्रूड कीमतों में 30 फीसदी की भारी गिरावट आई है। ब्रेंट 30 डॉलर पर पहुंच गया। GOLDMAN SACHS ने ब्रेंट का लक्ष्य घटाकर 20 डॉलर किया है।

यस बैंक संकट
यस बैंक में अनियमितताओं की आशंका में एक महीने में 50,000 रुपये निकासी का लिमिट तय की गई है। वहीं, यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर प्रवर्तन निदेशालय की गिरफ्त में हैं। फिलहाल यस बैंक को बचाने के लिए देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई सामने आया है जो बैंक में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीद सकता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...