इस कंपनी के CEO ने दावा किया कि साल 2020 में रोबोट टैक्सी लांच करेंगे

robot-taxi
इस कंपनी के CEO ने दावा किया कि साल 2020 में रोबोट टैक्सी लांच करेंगे

नई दिल्ली। अमरीकी इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी Tesla के सीईओ एलन मस्क ने दावा किया है कि उनकी कंपनी 2020 तक स्वचालित रोबोट टैक्सी लांच कर देगी। पहले इसे कुछ शहरों में लांच किया जाएगा। क्योंकि, हर जगह चलाने की मंजूरी नहीं मिली है। मस्क का दावा है कि लांचिंग के एक साल बाद 10 लाख से ज्यादा रोबोट टैक्सी ऑपरेशन में आ जाएंगी।

The Companys Ceo Claimed That The Robot Taxi Will Launch In 2020 :

दरअसल, सोमवार को टेस्ला ऑटोनॉमी डे पर मस्क ने रोबोट टैक्सी की खूबियों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि रोबोट टैक्सी अपने आप घर लौटकर पार्किंग में खड़ी हो जाएगी। इसका चार्जिंग सिस्टम भी ऑटोमैटिक होगा। टैक्सी में सैमसंग की माइक्रोचिप लगाई जाएगी। मस्क का दावा है कि 2020 के मध्य तक टेस्ला का आटोनॉमस सिस्टम इतना डेवलप हो जाएगा कि ड्राइवरों को सड़क पर माथापच्ची करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

ये है खासियत

वहीं, मस्क का कहना है कि उनकी कंपनी ऐसी इलेक्ट्रिक कारें बनाने जा रही है, जो 10 लाख मील तक चल सकेंगी। इनमें मेंटेनेंस की जरूरत नहीं के बराबर होगी। इनमें सेल्फ ड्राइविंग सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल होगा। इस साल जनवरी में हुए कंज्यूमर इलेक्ट्रानिक्स शो में टेस्ला की ड्राइवरलेस कार ने स्वचलित रोबोट को टक्कर मार दी थी। इस घटना के बाद ड्राइवरलेस कार को लेकर कई सवाल उठे थे।

बता दें, ड्राइवरलेस कारों को उतारने के लिए टेस्ला के साथ गूगल, फोर्ड, उबर दौड़ में थीं। हालांकि, सड़कों पर ड्राइवरलस कार को लाने में नूटोनॉमी ने बाजी मार ली। उसने दुनिया की पहली सेल्फ ड्राइविंग टैक्सी सर्विस 2016 से सिंगापुर में शुरू की थी। अमेरिका की कैब सर्विस प्रोवाइडर कंपनी उबर की 2023 तक 5 देशों में एयर टैक्सी सर्विस शुरू करने की योजना है। इन देशों में भारत भी शामिल है।

नई दिल्ली। अमरीकी इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी Tesla के सीईओ एलन मस्क ने दावा किया है कि उनकी कंपनी 2020 तक स्वचालित रोबोट टैक्सी लांच कर देगी। पहले इसे कुछ शहरों में लांच किया जाएगा। क्योंकि, हर जगह चलाने की मंजूरी नहीं मिली है। मस्क का दावा है कि लांचिंग के एक साल बाद 10 लाख से ज्यादा रोबोट टैक्सी ऑपरेशन में आ जाएंगी। दरअसल, सोमवार को टेस्ला ऑटोनॉमी डे पर मस्क ने रोबोट टैक्सी की खूबियों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि रोबोट टैक्सी अपने आप घर लौटकर पार्किंग में खड़ी हो जाएगी। इसका चार्जिंग सिस्टम भी ऑटोमैटिक होगा। टैक्सी में सैमसंग की माइक्रोचिप लगाई जाएगी। मस्क का दावा है कि 2020 के मध्य तक टेस्ला का आटोनॉमस सिस्टम इतना डेवलप हो जाएगा कि ड्राइवरों को सड़क पर माथापच्ची करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

ये है खासियत

वहीं, मस्क का कहना है कि उनकी कंपनी ऐसी इलेक्ट्रिक कारें बनाने जा रही है, जो 10 लाख मील तक चल सकेंगी। इनमें मेंटेनेंस की जरूरत नहीं के बराबर होगी। इनमें सेल्फ ड्राइविंग सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल होगा। इस साल जनवरी में हुए कंज्यूमर इलेक्ट्रानिक्स शो में टेस्ला की ड्राइवरलेस कार ने स्वचलित रोबोट को टक्कर मार दी थी। इस घटना के बाद ड्राइवरलेस कार को लेकर कई सवाल उठे थे। बता दें, ड्राइवरलेस कारों को उतारने के लिए टेस्ला के साथ गूगल, फोर्ड, उबर दौड़ में थीं। हालांकि, सड़कों पर ड्राइवरलस कार को लाने में नूटोनॉमी ने बाजी मार ली। उसने दुनिया की पहली सेल्फ ड्राइविंग टैक्सी सर्विस 2016 से सिंगापुर में शुरू की थी। अमेरिका की कैब सर्विस प्रोवाइडर कंपनी उबर की 2023 तक 5 देशों में एयर टैक्सी सर्विस शुरू करने की योजना है। इन देशों में भारत भी शामिल है।