1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. कोरोना के कहर से डॉक्टर भी हैं दहसत में प्रमुख अधीक्षक ने जिलाचिकित्सालय के डॉक्टरों के साथ की बैठक

कोरोना के कहर से डॉक्टर भी हैं दहसत में प्रमुख अधीक्षक ने जिलाचिकित्सालय के डॉक्टरों के साथ की बैठक

By ravijaiswal 
Updated Date

https://youtu.be/CEdCSJA8veY

दो लोगों के रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने से डॉक्टरों में है दहसत

गोरखपुर में दो कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने से जिलाचिकित्सालय के डॉक्टर भी हैं दहसत में.डॉक्टरों के अंदर इसकदर डर बना हुआ है की प्रमुख अधीक्षक जिलाचिकित्सालय द्वारा डॉक्टरों के साथ मीटिंग कर उनके अंदर बने डर को किया गया भय मुक्त।

वैश्विक महामारी कोरोना ने पूरे विश्व को अपनी चपेट में लिया है ऐसे वक्त वैश्विक महामारी से बचने के लिए देश के प्रधानमंत्री के निर्देश पर संपूर्ण रूप से लॉकडाउन लगाया गया । ताकि लोग घरों में रहे और सुरक्षित रहें .सारी सेवाएं बंद कर दी गई स्कूल कॉलेज तमाम संस्थान दुकाने इस महामारी की वजह से बंद है .सारे कारोबार ठप पड़े हुए हैं .तो वही शासन प्रशासन से लेकर तमाम संस्थाओं द्वारा लोगों के मदद के साथ साथ लोगों को जागरूक किया जा रहा है .कि घरों में रहे सोशल डिस्टेंस बना कर रहे घरों से बाहर ना निकले .
और ऐसे हालात में गोरखपुर शहर में पिछले 72 घंटे के अंदर दो लोगों की कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई.और दोनों मरीज पहले गोरखपुर जिलाचिकित्सालय पहुचें.वहाँ से फिर क़वारेंटाइन किया गया .जब दूसरे दिन रिपोर्ट आई तो कोरोना पोजिटिव की पुष्टि हुई.
बाहर से आने वाले मरीजो को लेकर जिलाचिकित्सालय के डॉक्टरों के अंदर दहसत बना हुआ है कि आखिर जो मरीज बाहर से रहे हैं उनका इलाज कैसे करें. जो लोग आए हुए हैं क्या कोरोना पॉजिटिव है या स्वस्थ हैं क्योंकि बिना जांच के तत्काल कंफर्म करना बहुत मुश्किल हो रहा है इस वजह से डॉक्टरों के अंदर दहशत बना हुआ है उनके अंदर के दहशत को खत्म करने के लिए प्रमुख अधीक्षक ने तमाम डॉक्टरों के साथ मीटिंग कर उनके अंदर बने हुए दहसत को भय को कराया भय मुक्त .

जिला चिकित्सालय के प्रमुख अधीक्षक डॉ एके सिंह ने बताया कि डॉक्टरों के अंदर भय बना हुआ था उन मरीजो को लेकर जो अपने शहर के हैं या बाहर से आ रहे हैं .जिसको लेकर डॉक्टरों के साथ मीटिंग कर उन्हें भय मुक्त किया गया .डॉक्टर्स को बताया भी गया कि जो मरीज बाहर से आते हैं तो पहले पता करें.किस तरह के मरीज हैं इलाज हुआ है पहले कि नहीं हुआ है .या डायरेक्ट आ रहे हैं इन मरीजों को पहले कहां रखा जाएगा किस तरह से इलाज किया जाए .और कहां-कहां इन मरीजों को भेजा जाए इन तमाम चीजों को लेकर जानकारी दी गई है.उनके अंदर बने भय को खत्म किया गया।

बैठक में अधीक्षक एके श्रीवास्तव, डॉ वीके सुमन, डॉ राजेश कुमार, डॉ एस के यादव, डॉ प्रशांत सिंह सहित जिला चिकित्सालय के अन्य चिकित्सक रहे उपस्थित ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...