योगी सरकार में स्मार्ट सिटी का सपना ध्वस्थ, बरेली-मुरादाबाद पूरी तरह से रहा फिसड्डी

barelly
योगी सरकार में स्मार्ट सिटी का सपना ध्वस्थ, बरेली-मुरादाबाद पूरी तरह से रहा फिसड्डी

लखनऊ। योगी सरकार में अधिकारियों की लापरवाही से स्मार्ट सिटी का सपना भी ध्वस्थ होता नजर आ रहा है। इसी के मद्देनजर बरेली और मुरादाबाद में कोई काम न होने से नाराज मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने दोनो जिलों के कमिश्नर से जवाब तलब किया है। मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि विभिन्न परियोजनाओं/कार्यों की समीक्षा के लिये समय-समय पर आयोजित की जाने वाली वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग में स्मार्ट सिटी परियोजनाको भी शामिल किया जाए।

The Dream Of Smart City In Yogi Government Collapsed Bareilly Moradabad Was Completely Laggard :

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष कार्यदायी संस्था द्वारा कार्य में प्रगति न लाने पर उन्हें कार्य में तेजी लाने हेतु निर्देशित किया जाए। लक्ष्य के अनुसार कार्यदायी संस्था के काम में प्रगति नहीं होती है तो अर्थदण्ड वसूल किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि निर्माण स्थल पर मैनपावर एवं मशीनरी की स्थिति फोटोग्राफ्स सहित प्राप्त कर रोज मॉनीटिरिंग की जाए। बता दें कि मुख्य सचिव ने यह निर्देश लोक भवन में प्रोजेक्ट मॉनीटरिंग ग्रुप के अन्तर्गत स्मार्ट सिटी मिशन, अमृत योजना, नमामि गंगे योजना एवं मेट्रो परियोजना की समीक्षा के दौरान दिए।

इस दौरान मुख्य सचिव ने कहा कि राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन, भारत सरकार (एनएमसीजी) से समन्वय कर नमामि गंगे परियोजना के अन्तर्गत फर्रुखाबाद, गाजीपुर व मिर्जापुर के ड्रेनेज डायवर्जन व सीवरेज ट्रीटमेंट और आगरा सीवरेज स्कीम के अन्तर्गत नवीनीकरण एवं सुदृढ़ीकरण के संशोधित डीपीआर पर जल्द अनुमोदन प्राप्त किया जाए। उन्होंने वृंदावन एसटीपी/एसपीएस के नवीनीकरण एवं सुदृढ़ीकरण का कार्य, वाराणसी में गंगा एक्शन प्लान फेज-2 परियोजना का कार्य, मुरादाबाद में रामगंगा नदी के प्रदूषण की रोकथाम, वाराणसी में 50 एमएलडी क्षमता की एसटीपी रमाना का कार्य आगामी 31 मार्च तक पूरा कराने के निर्देश दिए हैं।

लोकभवन में हुई बैठक के दौरान जल निमग के प्रबंध निदेशक विकास गोठवाल ने बताया कि नमामि गंगे परियोजना के अन्तर्गत 45 परियोजनाओं में से 15 परियोजनाओं का कार्य पूर्ण हो चुका है, 19 परियोजनाओं का कार्य प्रगति पर है। इस बैठक में अपर मुख्य सचिव सूचना, गृह एवं धमार्थ कार्य अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास मनोज कुमार सिंह, प्रमुख सचिव नमामि गंगे अनुराग श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव पर्यटन जितेन्द्र कुमार, प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार, प्रमुख सचिव नियोजन आमोद कुमार, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, प्रबंध निदेशक उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कार्पोरेशन कुमार केशव सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

लखनऊ। योगी सरकार में अधिकारियों की लापरवाही से स्मार्ट सिटी का सपना भी ध्वस्थ होता नजर आ रहा है। इसी के मद्देनजर बरेली और मुरादाबाद में कोई काम न होने से नाराज मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने दोनो जिलों के कमिश्नर से जवाब तलब किया है। मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि विभिन्न परियोजनाओं/कार्यों की समीक्षा के लिये समय-समय पर आयोजित की जाने वाली वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग में स्मार्ट सिटी परियोजनाको भी शामिल किया जाए। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष कार्यदायी संस्था द्वारा कार्य में प्रगति न लाने पर उन्हें कार्य में तेजी लाने हेतु निर्देशित किया जाए। लक्ष्य के अनुसार कार्यदायी संस्था के काम में प्रगति नहीं होती है तो अर्थदण्ड वसूल किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि निर्माण स्थल पर मैनपावर एवं मशीनरी की स्थिति फोटोग्राफ्स सहित प्राप्त कर रोज मॉनीटिरिंग की जाए। बता दें कि मुख्य सचिव ने यह निर्देश लोक भवन में प्रोजेक्ट मॉनीटरिंग ग्रुप के अन्तर्गत स्मार्ट सिटी मिशन, अमृत योजना, नमामि गंगे योजना एवं मेट्रो परियोजना की समीक्षा के दौरान दिए। इस दौरान मुख्य सचिव ने कहा कि राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन, भारत सरकार (एनएमसीजी) से समन्वय कर नमामि गंगे परियोजना के अन्तर्गत फर्रुखाबाद, गाजीपुर व मिर्जापुर के ड्रेनेज डायवर्जन व सीवरेज ट्रीटमेंट और आगरा सीवरेज स्कीम के अन्तर्गत नवीनीकरण एवं सुदृढ़ीकरण के संशोधित डीपीआर पर जल्द अनुमोदन प्राप्त किया जाए। उन्होंने वृंदावन एसटीपी/एसपीएस के नवीनीकरण एवं सुदृढ़ीकरण का कार्य, वाराणसी में गंगा एक्शन प्लान फेज-2 परियोजना का कार्य, मुरादाबाद में रामगंगा नदी के प्रदूषण की रोकथाम, वाराणसी में 50 एमएलडी क्षमता की एसटीपी रमाना का कार्य आगामी 31 मार्च तक पूरा कराने के निर्देश दिए हैं। लोकभवन में हुई बैठक के दौरान जल निमग के प्रबंध निदेशक विकास गोठवाल ने बताया कि नमामि गंगे परियोजना के अन्तर्गत 45 परियोजनाओं में से 15 परियोजनाओं का कार्य पूर्ण हो चुका है, 19 परियोजनाओं का कार्य प्रगति पर है। इस बैठक में अपर मुख्य सचिव सूचना, गृह एवं धमार्थ कार्य अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास मनोज कुमार सिंह, प्रमुख सचिव नमामि गंगे अनुराग श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव पर्यटन जितेन्द्र कुमार, प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार, प्रमुख सचिव नियोजन आमोद कुमार, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, प्रबंध निदेशक उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कार्पोरेशन कुमार केशव सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।