लड़की ने Instagram पर पूछा जिंदा रहूं या मर जाऊं, 69 प्रतिशत लोगों ने कहा हां और वो मर गई

girl
लड़की ने Instagram पर पूछा जिंदा रहूं या मर जाऊं, 69% लोगों ने कहा हां और वो मर गई

नई दिल्ली। मलेशिया में 16 साल की लड़की ने सोशल मीडिया पर लोगों की राय के बाद खुदकुशी कर ली। बुधवार को मिली मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, किशोरी ने इंस्टाग्राम पर पोल-पोस्ट डालकर अपने फोलोवर्स से पूछा कि क्या उसे मर जाना चाहिए, या नहीं। करीब 69 प्रतिशत लोगों ने पोस्ट पर हां में प्रतिक्रिया दी, जिसके बाद किशोरी ने अपनी जान ले ली।

The Girl Asked On Instagram To Stay Alive Or Die People Said Die Then She Doing Suicide :

पुलिस ने बताया कि उसने अपनी पोस्ट की हेडिंग दी थी- यह बहुत महत्वपूर्ण, हेल्प मी चूज डी / एल। ज्यादातर लोगों ने ‘डी’ को चुना। ऐसा कहा जा रहा है कि ‘डी’ का मतलन ‘डेथ’ और ‘एल’ यानी ‘लाइफ’। इस लड़की के नाम का खुलासा नहीं किया गया है। इसने खुदकुशी के पहले फेसबुक स्टेट्स भी बदल दिया था।

खुदकुशी की वजह तनाव

ऐसा माना जा रहा है कि लड़की ने पारिवारिक तनाव की वजह से फैसला लिया। उसके सौतेले पिता ने वियतनाम की एक महिला से शादी की थी। इसके बाद वह कभी-कभी घर लौटता था। पुलिस अफसर ऐदिल बोल्हासन ने बताया कि घटनास्थल पर कोई आपराधिक साक्ष्य नहीं मिले हैं। यह सीधा खुदकुशी का मामला है।

मलेशिया के युवा और खेल मंत्री सैयद सद्दीक सैयद अब्दुल रहमान ने इस घटना पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि देश को इस पर चिंतन करना चाहिए और अफसरों को इस मामले में जांच करनी चाहिए। मैं युवाओं की मानसिक स्थिति को लेकर चिंतित हूं। इस पर देश में बहस होनी चाहिए।

वोट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए

नॉर्थ-वेस्टर्न राज्य पेनांग के सांसद और वकील रामकृपाल सिंह ने कहा कि उन लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए, जिन्होंने इस लड़की को आत्महत्या के लिए उकसाने का काम किया।

उधर, इंस्टाग्राम के अफसर चिंग यी वॉन्ग ने कहा कि हमारी संवेदनाएं लड़की के परिवार वालों के साथ हैं। हम सभी से आग्रह करते हैं कि जब भी इंस्टाग्राम पर ऐसी कोई गतिविधि या व्यवहार देखें,जिसमें किसी की जिंदगी को जोखिम है तो फौरन इमरजेंसी टूल का इस्तेमाल करें।

नई दिल्ली। मलेशिया में 16 साल की लड़की ने सोशल मीडिया पर लोगों की राय के बाद खुदकुशी कर ली। बुधवार को मिली मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, किशोरी ने इंस्टाग्राम पर पोल-पोस्ट डालकर अपने फोलोवर्स से पूछा कि क्या उसे मर जाना चाहिए, या नहीं। करीब 69 प्रतिशत लोगों ने पोस्ट पर हां में प्रतिक्रिया दी, जिसके बाद किशोरी ने अपनी जान ले ली। पुलिस ने बताया कि उसने अपनी पोस्ट की हेडिंग दी थी- यह बहुत महत्वपूर्ण, हेल्प मी चूज डी / एल। ज्यादातर लोगों ने 'डी' को चुना। ऐसा कहा जा रहा है कि 'डी' का मतलन 'डेथ' और 'एल' यानी 'लाइफ'। इस लड़की के नाम का खुलासा नहीं किया गया है। इसने खुदकुशी के पहले फेसबुक स्टेट्स भी बदल दिया था। खुदकुशी की वजह तनाव ऐसा माना जा रहा है कि लड़की ने पारिवारिक तनाव की वजह से फैसला लिया। उसके सौतेले पिता ने वियतनाम की एक महिला से शादी की थी। इसके बाद वह कभी-कभी घर लौटता था। पुलिस अफसर ऐदिल बोल्हासन ने बताया कि घटनास्थल पर कोई आपराधिक साक्ष्य नहीं मिले हैं। यह सीधा खुदकुशी का मामला है। मलेशिया के युवा और खेल मंत्री सैयद सद्दीक सैयद अब्दुल रहमान ने इस घटना पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि देश को इस पर चिंतन करना चाहिए और अफसरों को इस मामले में जांच करनी चाहिए। मैं युवाओं की मानसिक स्थिति को लेकर चिंतित हूं। इस पर देश में बहस होनी चाहिए। वोट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए नॉर्थ-वेस्टर्न राज्य पेनांग के सांसद और वकील रामकृपाल सिंह ने कहा कि उन लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए, जिन्होंने इस लड़की को आत्महत्या के लिए उकसाने का काम किया। उधर, इंस्टाग्राम के अफसर चिंग यी वॉन्ग ने कहा कि हमारी संवेदनाएं लड़की के परिवार वालों के साथ हैं। हम सभी से आग्रह करते हैं कि जब भी इंस्टाग्राम पर ऐसी कोई गतिविधि या व्यवहार देखें,जिसमें किसी की जिंदगी को जोखिम है तो फौरन इमरजेंसी टूल का इस्तेमाल करें।