पैसे लेकर गद्दारी करने वालों को उपचुनाव में हरायेगी जनता : दिग्विजय सिंह

digvijay
पैसे लेकर गद्दारी करने वालों को उपचुनाव में जनता हरायेगी : दिग्विजय सिंह

इंदौर। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला है। जूम एप के माध्यम से उन्होंने मीडिया से चर्चा की है। इस दौरान कहा है कि पैसे लेकर गद्दारी करने वालों को जनता उपचुनाव में हरायेगी। दिग्विजय सिंह ने दोहराया कि भाजपा में गए 22 विधायकों में से दस से 12 हमारे संपर्क में थे लेकिन उनकी मांग बड़ी थी।

The People Will Beat The Traitors With Money In The By Elections Digvijay Singh :

भाजपा ने इन विधायकों को 25-35 करोड़ रुपये दिए हैं। उन्होंने कहा कि अब कोई विधायक भाजपा में नहीं जाएगा। उपचुनाव में कांग्रेस सभी 24 सीटें जीतेगी। ज्योतिरादित्य सिंधिया पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी उनके घर जाकर कार्यकर्ताओं से मुलाकात की थी। इतना सम्मान किसी नेता को नहीं मिला लेकिन उनमें सब्र नहीं था।

सिंधिया ने दुश्मन के साथ दोस्ती कर ली। मैंने भी कहा था कि मैं और कमलनाथ 73-74 वर्ष के हैं, अगले 20-25 साल आपको ही राजनीति करनी है।लेकिन सिंधिया में सब्र नहीं था, उन्हें केंद्र में मंत्री बनना था। दिग्विजय सिंह ने कहा कि राज्यसभा में भी पहले स्थान पर रहना था, तो एक बार आकर कहते।

कांग्रेस में ग्वालियर-चंबल में सारी नियुक्ति करते थे, लेकिन भाजपा में कोई सुनवाई नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कलमलान और उनके बीच किसी प्रकार का मतभेद नहीं है। कई लोगों ने कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली। दिग्विजय सिंह ने कहा उनकी दोस्ती 40 साल पुरानी है और राज्यसभा कौन जाएगा, ये पार्टी तय करेगी।

उपचुनाव के लिए प्रत्याशी तय करने के लिए कमलनाथ सर्वे करवा रहे हैं। दिग्विजय सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुझाव मांगे थे। मैंने 25 पत्र लिखे, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

इंदौर। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला है। जूम एप के माध्यम से उन्होंने मीडिया से चर्चा की है। इस दौरान कहा है कि पैसे लेकर गद्दारी करने वालों को जनता उपचुनाव में हरायेगी। दिग्विजय सिंह ने दोहराया कि भाजपा में गए 22 विधायकों में से दस से 12 हमारे संपर्क में थे लेकिन उनकी मांग बड़ी थी। भाजपा ने इन विधायकों को 25-35 करोड़ रुपये दिए हैं। उन्होंने कहा कि अब कोई विधायक भाजपा में नहीं जाएगा। उपचुनाव में कांग्रेस सभी 24 सीटें जीतेगी। ज्योतिरादित्य सिंधिया पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी उनके घर जाकर कार्यकर्ताओं से मुलाकात की थी। इतना सम्मान किसी नेता को नहीं मिला लेकिन उनमें सब्र नहीं था। सिंधिया ने दुश्मन के साथ दोस्ती कर ली। मैंने भी कहा था कि मैं और कमलनाथ 73-74 वर्ष के हैं, अगले 20-25 साल आपको ही राजनीति करनी है।लेकिन सिंधिया में सब्र नहीं था, उन्हें केंद्र में मंत्री बनना था। दिग्विजय सिंह ने कहा कि राज्यसभा में भी पहले स्थान पर रहना था, तो एक बार आकर कहते। कांग्रेस में ग्वालियर-चंबल में सारी नियुक्ति करते थे, लेकिन भाजपा में कोई सुनवाई नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कलमलान और उनके बीच किसी प्रकार का मतभेद नहीं है। कई लोगों ने कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली। दिग्विजय सिंह ने कहा उनकी दोस्ती 40 साल पुरानी है और राज्यसभा कौन जाएगा, ये पार्टी तय करेगी। उपचुनाव के लिए प्रत्याशी तय करने के लिए कमलनाथ सर्वे करवा रहे हैं। दिग्विजय सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुझाव मांगे थे। मैंने 25 पत्र लिखे, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।