1. हिन्दी समाचार
  2. अपट्रान की कार्यशैली पर सवालिया निशान, जेल मुख्यालय कंट्रोल रूम के टेंडर में उजागर हुई करतूत

अपट्रान की कार्यशैली पर सवालिया निशान, जेल मुख्यालय कंट्रोल रूम के टेंडर में उजागर हुई करतूत

The Question Mark On The Methodology Of The Uptran Is Revealed In The Tender Of The Jail Headquarters Control Room

By आशीष यादव 
Updated Date

नई दिल्ली। जेल मुख्यालय में कंट्रोल रूम बनाने के लिए उठाए गए ठेके में अपट्रान कंपनी की करतूत उजागर हुई है, जिसको लेकर टेंडर डालने वाली एक अन्य एजेंसी ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री कार्यालय में की है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि कार्यदायी संस्था ने अपने चहेते को काम देने के लिए उसकी मनमुताबिक नियम व शर्तें रखी हैं। फिलहाल अब वो इस पूरी प्रक्रिया की जांच कराने की मांग कर रही है।

पढ़ें :- अंडरवर्ल्ड ले डूबा इन 5 अभिनेत्रियों का करियर, कोई गई जेल, तो कोई बनी संन्यासिनी

बता दें कि जेलों की निगरानी करने के लिए जेल मुख्यालय में कंट्रोल बनना था। जिसकी कार्यदायी संस्था अपट्रान है। बताया जा रहा है कि अपट्रान कंपनी एलजी कंपनी को टेंडर देना चाहती थी, लिहाजा उसी के हिसाब से सारी शर्तें बनाई गई।

जिसके बाद इस काम के टेंडर डालने वाली कंपनी सैमसंग ने इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री कार्यालय से की। उसका आरोप है कि एलजी के हिसाब से शर्तें बनाने के ​अलावा सीवीसी गाइड लाइन का भी पालन नहीं किया गया और न ही सुरक्षा निदेशालय से एनओसी ली गई। फिलहाल सैमसंग ने इस पूरी प्रक्रिया की जांच कराने की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...