निर्मला सीतारमण बनी बजट पेश करने वाली दूसरी महिला, 49 वर्ष पूर्व इंदिरा गांधी ने पेश किया था बजट

nirmala sitaraman
निर्मला सीतारमण बनी बजट पेश करने वाली दूसरी महिला, 49 वर्ष पूर्व इंदिरा गांधी ने पेश किया था बजट

नई दिल्ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश करने वाली दूसरी महिला बन गई हैं। 49 वर्ष पूर्व इंदिरा गांधी ने बजट पेश किया था, जिसके बाद से मौजूदा महिला वित्तमंत्री ने यह काम किया है। 28 फरवरी 1970 में प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री इंदिरा गांधी ने केंद्रीय बजट पेश किया था।

The Second Woman Who Presented The Budget For Nirmala Sitharaman Was Presented 49 Years Ago By Indira Gandhi :

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने मजबूत इरादों को बताने के लिए बजट भाषण में शायरी पढ़ी। उन्होंने कहा कि, ‘यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट भी लेकर चिराग जलता है।‘ इसके साथ ही उन्होंने बजट पेश करने के दौरान चाणक्यनीति सूत्रम, ‘कार्यपुरूषारकरेन लक्ष्यं संपादयतेत पढ़ा।‘ उन्होंने इसका मतलब भी बताया, दृढ निश्चय से कार्य करें तो काम पूरा होता ही है।

इसके बाद उन्होंने कुछ सालों में भारत को पांच ट्रिलियन डाॅलर की इकाॅनामी बनाने के मोदी सरकार के लक्ष्य का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि, जब हम 2014 में सरकार में आए तो हमारी इकाॅनामी करीब 1.85 ट्रिलियन डाॅलर थी। लेकिन पांच सालों में यह बढ़कर 2.7 ट्रिलियन डाॅलर पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि अगले कुछ सालों में इसे पांच ट्रिलियन डाॅलर पहुंचाने का लक्ष्य है।

इंदिरा गांधी के बजट के प्रमुख बिंदु

सिगरेट पर ड्यूटी बढ़ाकर 3 से 22 प्रतिशत कर दिया था
इंदिरा गांधी ने बजट भाषण में कहा था कि, मुझे माफ कीजिएगा लेकिन इस बार सिगरेेट पीने वालों के जेब पर भा डालने वाली हूं। उन्होंने सिगरेट पर ड्यूटी 3 से बढ़ाकर 22 प्रतिशत कर दिया था। इसके साथ ही 10 सिगरेट वाले पैकट की कीत एक से दो पैसे तक बढ़ जाएगी।

गिफ्ट टैक्स की सीमा को किया था आधा
डायरेक्टर टैक्स में इंदिरा गांधी ने गिफ्ट टैक्स के लिए संपत्ति की कीमत की अधिकतम सीमा 10,000 रुपये से घटाकर 5,000 रुपये कर दिया था। यानी 5,000 रुपये से अधिक संपत्ति को गिफ्ट करने पर उसे टैक्स के दायरे में लगाया गया था।

केंद्रीय कर्मचारियों की पेंशन राशि में 40 प्रतिशत बढ़ोतरी
इंदिरा गांधी ने केंद्रीय कर्मचारियों के लिए न्यूनतम पेंशन की राशि को 40 रुपये प्रतिमाह बढ़ाने का प्रस्ताव रखा था। यह बढ़ोत्तरी उनके लिए भी थी, जो पहले ही रिटायर हो चुके थे।

नई दिल्ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश करने वाली दूसरी महिला बन गई हैं। 49 वर्ष पूर्व इंदिरा गांधी ने बजट पेश किया था, जिसके बाद से मौजूदा महिला वित्तमंत्री ने यह काम किया है। 28 फरवरी 1970 में प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री इंदिरा गांधी ने केंद्रीय बजट पेश किया था। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने मजबूत इरादों को बताने के लिए बजट भाषण में शायरी पढ़ी। उन्होंने कहा कि, ‘यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट भी लेकर चिराग जलता है।‘ इसके साथ ही उन्होंने बजट पेश करने के दौरान चाणक्यनीति सूत्रम, ‘कार्यपुरूषारकरेन लक्ष्यं संपादयतेत पढ़ा।‘ उन्होंने इसका मतलब भी बताया, दृढ निश्चय से कार्य करें तो काम पूरा होता ही है। इसके बाद उन्होंने कुछ सालों में भारत को पांच ट्रिलियन डाॅलर की इकाॅनामी बनाने के मोदी सरकार के लक्ष्य का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि, जब हम 2014 में सरकार में आए तो हमारी इकाॅनामी करीब 1.85 ट्रिलियन डाॅलर थी। लेकिन पांच सालों में यह बढ़कर 2.7 ट्रिलियन डाॅलर पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि अगले कुछ सालों में इसे पांच ट्रिलियन डाॅलर पहुंचाने का लक्ष्य है।

इंदिरा गांधी के बजट के प्रमुख बिंदु

सिगरेट पर ड्यूटी बढ़ाकर 3 से 22 प्रतिशत कर दिया था इंदिरा गांधी ने बजट भाषण में कहा था कि, मुझे माफ कीजिएगा लेकिन इस बार सिगरेेट पीने वालों के जेब पर भा डालने वाली हूं। उन्होंने सिगरेट पर ड्यूटी 3 से बढ़ाकर 22 प्रतिशत कर दिया था। इसके साथ ही 10 सिगरेट वाले पैकट की कीत एक से दो पैसे तक बढ़ जाएगी। गिफ्ट टैक्स की सीमा को किया था आधा डायरेक्टर टैक्स में इंदिरा गांधी ने गिफ्ट टैक्स के लिए संपत्ति की कीमत की अधिकतम सीमा 10,000 रुपये से घटाकर 5,000 रुपये कर दिया था। यानी 5,000 रुपये से अधिक संपत्ति को गिफ्ट करने पर उसे टैक्स के दायरे में लगाया गया था। केंद्रीय कर्मचारियों की पेंशन राशि में 40 प्रतिशत बढ़ोतरी इंदिरा गांधी ने केंद्रीय कर्मचारियों के लिए न्यूनतम पेंशन की राशि को 40 रुपये प्रतिमाह बढ़ाने का प्रस्ताव रखा था। यह बढ़ोत्तरी उनके लिए भी थी, जो पहले ही रिटायर हो चुके थे।