‘मिस इंडिया 2017’ में तीसरा स्थान पाने वाली प्रियंका की कहानी उनकी जुबानी

मुंबई। बिहार की प्रियंका कुमारी जिसने ‘मिस इंडिया 2017’ में तीसरा स्थान काबिज कर बिहार का मान बढ़ाया है लेकिन इस मुकाम को हासिल करने के लिए प्रियंका को कितने पापड़ बेलने पड़े इसे जान आप भी हैरान रह जाएंगे। प्रियंका को मॉडलिंग करियर शुरू करने के लिए कितनी जद्दोजहद करनी पड़ी इन बातों को आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते। अब आप भी प्रियंका के मुह से ही जान लीजिये कि अगर आज उन्हें यह तमगा मिला है तो इसके पीछे का राज क्या है।

दरअसल 2017 में हुये मिस इंडिया शो में तीसरे स्थान पर अपने नाम की ठप्पा लगाकर बिहार का नाम रोशन करने वाली प्रियंका कुमारी का कहना है कि वो बचपन में बास्केटबॉल खेलती थी और लड़को की तरह रहती थी, यही वजह है कि जब उन्होने अपने माता-पिता को अपने मॉडलिंग करियर के बारे में बताया तो वो उनके इस फैसले से हैरान रह गए। इतना ही नहीं प्रियंका ने बताया कि इस शो में सफलता पाने के लिए उन्होने खुद को बदला और मिस रैंप वॉक का विशेष अवार्ड जीत यहाँ तक पहुची। उन्होने ने अपने माता-पिता को अपने  सफलता का श्रेय देते हुये बताया कि दोनों ने उनके इस फैसले मे उनका पूरा साथ दिया।

गरीबों के लिए कुछ करना चाहती है…

प्रियंका का कहना है कि वो सड़क पर घूम रहे भूढ़े, बच्चे जैसे अन्य गरीबों के लिए कुछ करना चाहती है। जिसके लिए वो जल्द ही एक संस्था शुरू करेंगी। उन्होने आगे कहा कि उनका इस दिशा में काम करने का उद्देश्य भीख मांगने वाले बच्चों को स्कूल भेजना और बुजुर्गो को अच्छा जीवनस्तर देना है।

{ यह भी पढ़ें:- भाभी जी घर पर नहीं.. ऋषि कपूर को लाइन मार रही हैं }