1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. दिसंबर तक पूरे देश को कोरोना वैक्सीनेशन करने का है लक्ष्य : ICMR

दिसंबर तक पूरे देश को कोरोना वैक्सीनेशन करने का है लक्ष्य : ICMR

इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने मंगलवार को बताया कि पूरे देश को कोरोना वैक्सीनेशन करने का लक्ष्य दिसंबर तक तय किया गया है। साथ ही यह भी बताया कि कोरोना वैक्सीनेशन के लिए जुलाई तक पर्याप्त डोज देश में उपलब्ध होगी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने मंगलवार को बताया कि पूरे देश को कोरोना वैक्सीनेशन करने का लक्ष्य दिसंबर तक तय किया गया है। साथ ही यह भी बताया कि कोरोना वैक्सीनेशन के लिए जुलाई तक पर्याप्त डोज देश में उपलब्ध होगी।

पढ़ें :- Corona Vaccination: अब 6-12 साल के बच्चों को भी लगेगी कोरोना वैक्सीन, DCGI ने दी मंजूरी

आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि देश में वैक्सीन की कमी नहीं है। मध्य जुलाई या अगस्त तक हमारे पास रोज एक करोड़ लोगों को टीके लगाने के लिए पर्याप्त डोज होंगे। दिसंबर तक देश की पूरी आबादी को टीके लगा लेने का हमें पूरा विश्वास है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में जारी टीकाकरण को लेकर मंगलवार को स्पष्टीकरण दिया। मंत्रालय ने कहा कि कोविशील्ड की खुराक में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इसकी केवल दो खुराक होगी। पहली कोविशील्ड खुराक देने के बाद दूसरी खुराक 12 सप्ताह बाद दी जाएगी। कोवाक्सिन को लेकर भी यही प्रक्रिया रहेगी।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि 16-22 फरवरी के बीच प्रतिदिन देश में 7.7 लाख टेस्ट प्रतिदिन किए जा रहे थे। अब हम लगभग 20 लाख टेस्ट प्रतिदिन कर रहे हैं। अब तक हम देश में कुल 34.67 करोड़ टेस्ट कर चुके हैं।

अग्रवाल ने कहा कि देश में सक्रिय मामलों में 50 फीसदी की कमी आई है। वहीं बीते 24 घंटे में सक्रिय मामलों में 1.3 लाख की कमी आई है। 30 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में एक सप्ताह से लगातार मामले घट रहे हैं, जो कि एक अच्छा संकेत है। उन्होंने कहा कि तीन मई को देश में 17.13 फीसदी सक्रिय मामले थे अब वह सिर्फ 6.73 फीसदी रह गए हैं।

पढ़ें :- वैज्ञानिक प्रज्ञा यादव ने बताया देश में कोरोना वायरस पर कैसे पाया गया काबू? जानिए

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में 29 राज्य और केंद्रशासित प्रदेश ऐसे हैं जहां प्रतिदिन 5000 से कम मामले दर्ज किए जा रहे हैं। 28 अप्रैल से 4 मई के बीच देश में 531 ऐसे जिले थे जहां प्रतिदिन 100 से अधिक मामले दर्ज किए जा रहे थे। ऐसे जिले अब 295 रह गए हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...