जाने योगी सरकार में मंत्री स्वाती सिंह का भंडारे में पैसे बांटने का वायरल सच

The Viral Truth Of Up Minisrer Swati Singh On Social Media

लखनऊ। अर्श से फर्श तक किसी को कैसे पहुंचाया जा सकता है, इसके लिए सोशल मीडिया से सुलभ माध्यम आज के समय के कुछ और नहीं हो सकता। सोशल मीडिया आज के समय में अफवाहों का अड्डा बनाता जा रहा है। लोग अपनी निजी या राजनीतिक खुन्नस निकालने के लिए यहां नए-नए प्रयोग कर रहें है, तरह-तरह के घटिया कृत्य को अंजाम दे रहें हैं जिसमे वे सफल भी हो रहें हैं। वर्तमान समय में ऐसे कई प्रमाण आपको भी देखने को मिल सकते है। ताजा मामला योगी सरकार में स्‍वतंत्र प्रभार राज्‍य मंत्री स्वाति सिंह का ही ले लीजिये जिनकी एक फोटो आज के समय में सोशल मीडिया पर बड़ी तेज़ी से वायरल हो रही है। जिसमे दिखाई दे रहा है कि मंत्री साहिबा भंडारे में भोजन वितरण के दौरान थाली में खुलेआम पैसे (नोट) बांट रही है। यह वाकई आश्चर्य का विषय है कि अभी चुनाव में इतने दिन बाकी है, कोई निजी स्वार्थ भी नहीं है तो कोई मंत्री या नेता पैसे क्यों बाटेंगा।



अब जैसा कि हम बचपन से सुनते आ रहें है कि हर सिक्के के दो पहलू होते है ठीक उसी प्रकार इस वायरल फोटा का भी एक पहलू है जो जनता तक नहीं पहुँच पाया है। दरअसल स्वाती सिंह जब भंडारे में भोजन वितरण कर रही थी तो सनातन धर्म के अनुसार उन्होने भंडारा शुरू करने से पहले 11 कन्याओं को दक्षिणा के तौर पर अपनी श्रद्धा अनुसार पैसे भी बांटे। इस दौरान किसी ने राजनीतिक द्वेष के कारण थाली में पैसे के साथ स्वाती सिंह का फोटो क्लिक कर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। फोटो वायरल करने वाले ने सिर्फ स्वाती सिंह के साथ पैसे वाली थाली का फोटो शेयर करते हुए लिखा है कि मंत्री साहिबा के पास नोटबंदी के बाद भी इतने पैसे है कि खुलेआम वो भंडारे में बाँट रही है। जिसके बाद यह अफवाह आग की तरह सोशल मीडिया पर फैल गयी और इस पर सच्चाई जाने बिना लोगों ने तरह तरह की प्रतिक्रियायें देनी शुरू कर दी।



बता दें कि ज्येष्ठ मास का हर मंगलवार राजधानी में धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस मौके पर भंडारे का आयोजन होता है। सरकारी ही नहीं बल्कि निजी प्रतिष्ठान भी भंडारे का आयोजन करते हैं। 6 मई माह के अंतिम मंगलवार को लखनऊ के गोमती नगर में मंत्री स्वाति सिंह ने भंडारे का आयोजन किया। इस मौके पर स्‍वाति सिंह ने भी अपने आवास पर भंडारे का आयोजन किया था।

लखनऊ। अर्श से फर्श तक किसी को कैसे पहुंचाया जा सकता है, इसके लिए सोशल मीडिया से सुलभ माध्यम आज के समय के कुछ और नहीं हो सकता। सोशल मीडिया आज के समय में अफवाहों का अड्डा बनाता जा रहा है। लोग अपनी निजी या राजनीतिक खुन्नस निकालने के लिए यहां नए-नए प्रयोग कर रहें है, तरह-तरह के घटिया कृत्य को अंजाम दे रहें हैं जिसमे वे सफल भी हो रहें हैं। वर्तमान समय में ऐसे कई प्रमाण आपको भी…