1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. पूरे देश सांसों के लिए लड़ रहा है जंग, मोदी सरकार ने तोड़ा देशवासियों का विश्वास : प्रियंका गांधी

पूरे देश सांसों के लिए लड़ रहा है जंग, मोदी सरकार ने तोड़ा देशवासियों का विश्वास : प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार को देशवासियों के नाम एक पत्र लिखा है। प्रियंका गांधी ने इस पत्र में सरकार पर जमकर तंज कसा है। प्रियंका गांधी ने अपने पत्र में आज की मौजूदा स्थिति पर संवेदना जताई है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार को देशवासियों के नाम एक पत्र लिखा है। प्रियंका गांधी ने इस पत्र में सरकार पर जमकर तंज कसा है। प्रियंका गांधी ने अपने पत्र में आज की मौजूदा स्थिति पर संवेदना जताई है।

पढ़ें :- भारत के आगे झुका ब्रिटेन, जारी की New Travel Advisory, Covishield Vaccine को दी मंजूरी
Jai Ho India App Panchang

उन्होंने लिखा कि आज कोई भी इस भयावह महामारी से अछूता नहीं है। पूरे देश में सांसों के लिए जंग लड़ी जा रही है। जनता के इस बुरे हाल को देखकर साफ है कि देश की सत्ता में बैठी सरकार ने देशवासियों का विश्वास तोड़ दिया है। श्रीमती गांधी ने लिखा कि कोरोना महामारी के कारण चारों तरफ जो मायूसी ही मायूसी फैली है, उसके बीच सबको ढाढस बांधते हुए दूसरों की मदद के लिए जो बन पड़े बिना थके वह करना है और थकान को नजर अंदाज कर काली आंधी का डटकर मुकाबला करना है।

उन्होंने कहा कि ये जो अंधेरा हमारे चारों ओर फैला हुआ है, उसको चीरते हुए उजाला एक बार फिर उभरेगा। यह हम सबकी जिंदगी का एक अहम मोड़ है, जहां हम अपनी सीमाओं के परे जाकर एक बार फिर अपनी असीमित जिजीविशा से साक्षात्कार कर पा रहे हैं। बेबसी और भय को परे कर हम पर साहसी बने रहने की चुनौती है, इसलिए जाति, धर्म, वर्ग या किसी भी भेद को खारिज करते हुए, इस लड़ाई में हम सब एक हैं। ये वायरस भेदों को नहीं पहचानता।

श्रीमती वाड्रा ने अत्यंत भावुक शब्दों में कहा कि ये लाइनें लिखते वक्त मेरा दिल भरा हुआ है। मुझे पता है कि पिछले कुछ हफ़्तों में आपमें से कई लोगों ने अपने प्रियजनों को खोया है, कइयों के परिजन जिंदगी के साथ जद्दोजहद कर रहे हैं और कई लोग अपने घरों पर इस बीमारी से लड़ते हुए सोच रहे हैं, आगे क्या होगा। हममें से कोई भी इस आफत से अछूता नहीं है। पूरे देश में साँसों के लिए जंग चल रही है,अस्पताल में भर्ती होने और दवाओं की एक खुराक पाने के लिए पूरे देश में लोगों के अंतहीन संघर्ष जारी हैं।

उन्होंने उहापोह की स्थिति पैदा करने के लिए सरकार पर हमला किया और कहा कि इस सरकार ने देश की उम्मीदों को तोड़ दिया है। मैंने विपक्ष की एक नेता के रूप में इस सरकार से लगातार लड़ाइयाँ लड़ी हैं, मैं इस सरकार की विरोधी रही हूँ, मगर मैंने भी कभी ये नहीं सोचा था कि ऐसी मुश्किल घड़ी में कोई सरकार और उसका नेतृत्व इस कदर अपनी ज़िम्मेदारियों को पीठ दिखा सकता है। हम अब भी अपने दिलों में ये भरोसा पाले हुए हैं कि वे जागेंगे और लोगों का जीवन बचाने के लिए ठोस कदम उठाएंगे।

पढ़ें :- शेरशाह के एक्टर ने दिया बड़ा बयान, कहा मैं कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाऊंगा, यह मानव इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला 

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि बावजूद इसके कि देश का शासन चलाने के पवित्र कार्यभार की जिम्मेदारी रखने वाले लोगों ने देश को न उम्मीद किया है, लेकिन देश की जनता को उम्मीद का दामन नहीं छोड़ना है। मुश्किल घड़ियों में इंसानियंत का झंडा हमेशा बुलंद रहा है। हिंदुस्तान ने पहले भी ऐसे दर्द और पीड़ा का सामना किया है। देश ने बड़े-बड़े तूफ़ान, अकाल, सूखा, भयंकर भूकंप और भयानक बाढ़ देखी है, मगर हमारा माद्दा टूटा नहीं और विपरीत परिस्थितियों में दूसरे का हाथ थामकर इंसानियत को कभी निराश नहीं किया।

उन्होंने कहा कि डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्य कर्मी अधिकतम दबाव के बीच रात-दिन लोगों को बचाने का काम कर रहे हैं। अपना जीवन खतरे में डाल रहे हैं। औद्योगिक वर्ग के लोग अपने संसाधनों को ऑक्सीजन तथा अस्पतालों की अन्य जरूरतों को पूरा करने में लगा रहे हैं। हर जिले, शहरों, क़स्बों एवं गांवों में ऐसे तमाम संगठन तथा व्यक्ति हैं जो लोगों की पीड़ा कम करने के लिए तन-मन-धन से जुटे हुए हैं। हम सबमे अच्छाई की एक मूल भावना है। असीम पीड़ा के इस दौर में अच्छाई की यह जुंबिश हमारे राष्ट्र की आत्मा और रुतबे को और मजबूत बनाएगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...